Menu

डब्बा ट्रेडिंग कराने वाले व डब्बे मे ट्रेड करने वालो दोनों बर्बाद हो जाते हैं

www.nvrthub.com न्यूज़: यदि आप शेयर मार्किट या कमोडिटी बाजार से परिचित हैं, तो आपने डब्बा ट्रेडिंग के बारे में जरूर ही सुना होगा। चाहे कोई भी बिज़नस हो प्रोडक्ट हो या फिर कुछ और हर जगह आपको गैरकानूनी कार्य होते ही मिलेंगे। हम ज्यादा गहराई मे ना जाते हुए हम बात करेंगे गैरकानूनी तौर पर चलाए जाने वाले इस खेल के बारे में निवेशकों या इस बिज़नस मे कारोबार करने वालो को जानना जरूरी है।
commodity market and investors alerts and warnning
आप सोचते  होंगे कि डब्बा ट्रेडिंग है क्या बला और यह होती कैसे होगी। डब्बा ट्रेडिंग में भी शेयरों और कमोडिटीज का कारोबार होता है, बस फर्क यह है कि जहां रजिस्टर्ड ब्रोकर अपने इन्वेस्टर्स और और कमोडिटी या स्टॉक एक्सचेंजों के बीच एजेंट का काम करता है, वहीं डब्बा चलाने वाला अपने आप में एक पूरी संस्था होता है। वह अपने ग्राहकों द्वारा किए जाने वाले सौदों को केवल अपने रजिस्टर में दर्ज करता है, उसके आगे ये सौदे एक्सचेंज या बाजार तक नहीं पहुंचते। उसी के स्तर से इन सौदों का निबटारा हो जाता है।
क्यों व कैसे उठाना पड़ता है लोगों को नुकसान इस तरह के इन्वेस्टमेंट मे?
रजिस्टर्ड ब्रोकर अपने इन्वेस्टर्स के सभी सौदे सेबी (या एफएमसी) और एक्सचेंजों के नियमों के हिसाब से निबटाता है, जबकि डब्बा ट्रेडर अपने स्तर से ही सब कुछ निबटा देता है। ऐसे में सवाल यह कि लोग इसमें क्यों हिस्सा लेते हैं। इसकी वजह यह है कि किसी भी तरह की नकदी के जरिए इस खेल में हिस्सा लिया जा सकता है और कई गुना फायदे के लालच में लोग इसके प्रति आकर्षित हो जाते हैं। जानकारों का मानना है कि इस खेल में काले धन का भी काफी इस्तेमाल होता है। यही नहीं, डब्बा चलाने वाले लोग अपने खास ग्राहकों को कम से कम मार्जिन पर अधिक से अधिक ट्रेडिंग करने की छूट देते हैं। इसकी वजह से भी लोग इसकी ओर आकर्षित होते हैं। इसके प्रति आकर्षण की एक वजह यह भी है कि न तो इसमें टैक्स लगता है और न ही इसके लिए केवाईसी की जरूरत होती है।
डब्बा चलाने वाले कम मार्जिन पर अधिक से अधिक कारोबार की सुविधा देते है, इस सुविधा की वजह से लोग लालच में पड़ जाते हैं और अपनी सीमा से बाहर जा कर ट्रेडिंग कर लेते हैं। ऐसे में अगर दांव उल्टा पड़ा, तो उन्हें भारी नुकसान भी सहना पड़ता है। हालांकि सेबी और अन्य रेगुलेटर्स ने इसे रोकने के प्रयास जरूर किए हैं, लेकिन अभी तक उन्हें इसमें कामयाबी नहीं मिली है।
कई बार देखा गया है के जब तक आप अपना पैसा गवाते रहते हैं तब तक डब्बा बिज़नस चलता रहता है और जब आप अपना बिज़नस मे माहिर हो जाते हैं तो आपका पैसा भी यहाँ सुरक्षित नही होता है।  यदि अपने यहाँ से पैसा कम भी लिया तो इसका बैंक मे या इनकम टैक्स मे हिसाब देना बहुत मंहगा साबित हो सकता है ताज़ा मामला हरियाणा रोहतक जिले मे एक डब्बा चलाने वाल के पास एक इन्वेस्टर ने से दो लाख इन्वेस्ट कर दिए लेकिन किसी कारण से उसके दो लाख क्लियर हो गये उसके बाद उसको पता लगा के ये तो सेबी या एफएमसी से रजिस्टर्ड ही नही हैं तो उसके पैसे कैसे इक्वल हो सकते हैं तो उन्होंने सेशन कोर्ट रोहक मे केस लॉज किया उसमे जज साहब ने फैसला सुनाया के आप 420 व और कई मामलो के अपराधी हो और उनको सात साल की सजा सुने गयी। यदि आप इस तरह की सोच रहे हैं तो समझ जाइये यदि इन्वेस्ट कर चुके हैं तो उसे निकालिए।

 
Top