Menu

भगोड़े हुए MAXFOREX की प्रोमोटर पंजाब में गिरफ्तार संचालक अभी भी पकड़ से बहार

www.nvrthub.com न्यूज़: MAXFOREX  के नाम पर एक और फर्जीवाड़ा करने का मामला प्रकाश में आया है दरअसल मामला श्री मुक्तसर साहिब पंजाब का है जानकारी के अनुसार बलविंद्र सिंह तथा दीपइंद्र सिंह वासी चक्क बीड़ सरकार ने 18 मई 2011 को जिला पुलिस दफ्तर में एक दख्र्वास्त दी थी कि इंद्रजीत सिंह पुत्र संतोख सिंह, मनिंद्र कौर पत्नी इंद्रजीत सिंह तथा सुखपाल सिंह पुत्र गुरनाम सिंह वासी भटिंडा ने खुद को मैक्स फोरेक्स कंपनी के अधिकारी या प्रमोटर बताते हुए पहचान बताई थी। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी लोगों से रुपए लेकर अढ़ाई वर्षों में दोगुने करके देती है। उनके द्वारा सबूत के तौर पर कंपनी की वैबसाइट भी दिखाई थी। इस पर वह झांसे में आ गए और शिकायतकत्र्ता द्वारा 85 लाख रुपए नकद मिड-वे होटल में इन्हें दे दिए। जवाब में उन्हें कहा गया था कि उन्हें दी गई रकम की पक्की रसीदें बाद में कंपनी द्वारा दी जाएंगी।
fraud persons arrested in max forex regarding in india

कैसे हो गयी कंपनी एक दम से गायब

कुछ समय बाद उन्हें कंपनी की वैबसाइट से पता चला कि उन्हें दी गई रकम तो कंपनी के खाते में जमा ही नहीं हुई और न ही उन लोगों ने उन्हें वह रकम लौटाई। पुलिस को दख्र्वास्त देने पर पड़ताल उपरांत तीन लोग आरोपी पाए गए जिसके चलते थाना सदर मुक्तसर में उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मुकद्दमा दर्ज किया गया था। 2011 से ये सभी आरोपी फरार घोषित थे पुलिस द्वारा बार-बार छापेमारी के बावजूद आरोपियों की गिरफ्तारी संभव नहीं हो सकती थी, क्योंकि आरोपी हर बार ठिकाना बदल लेते थे। आखिर 26 मार्च 2014 को अदालत मुक्तसर द्वारा सभी आरोपियों को भगौड़ा करार दे दिया गया था। आखिर में पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए थाना सदर के ए.एस.आई. धर्मपाल के नेतृत्व में भगौड़े आरोपियों में शामिल मनिंद्र कौर पत्नी इंद्रजीत सिंह को उसकी रिहायश एस.ए.एस. नगर भटिंडा से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की, जबकि अन्य आरोपियों को पकडऩे के प्रयास जारी हैं।
 
Top