Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

niit university btec course admission alerts, btech course in NIIT University for jee main, bit set, set, eligibility of NIIT University fee, indian maritime university admission alerts, news and upadte of imu chennai for llm, indian maritime university fee structure, imu chennai mba admission alerts,National Institute of Electronics & Information Technology admission alerts, nielit.in admissions 2014-15, pg admission in nielit, gate test news, eligibility of gate, validity of gate test 2014-15, European countries will start new academic courses in English languages, study in European countries news, latest news about foreign counties students

top universites current admissions
एनआईआईटी यूनिवर्सिटी (NIIT University) के बीटेक कोर्स में प्रवेश
एनआईआईटीयूनिवर्सिटी के बीटेक कोर्स में प्रवेश के लिए छात्र 31 जुलाई तक आवेदन कर सकते हैं। एडमिशन जेईई-मेन, बिटसैट, सैट या यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर मिलेगा। अप्लाई करने के सात दिनों के अंदर काउंसलिंग होगी और इसके दो दिन बाद रिजल्ट मिल जाएगा।

एलिजिबिलिटी (Eligibility)
60फीसदी अंकों के साथ साइंस स्ट्रीम में 10+2 की परीक्षा पास की हो। फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स या बायोलॉजी, इंग्लिश ओर किसी एक अन्य सब्जेक्ट को मिलाकर 60 फीसदी से ज्यादा अंक हों। इसके अलावा दसवीं की परीक्षा में भी 60 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल किए हों।
फीस (Fee Structure)
एनआईआईटीयूनिवर्सिटी में बीटेक की सालाना फीस करीब 3 लाख 50 हजार रुपए है। इसमें लॉजिंग और फूडिंग का खर्च भी शामिल है। मणिपाल यूनिवर्सिटी में बीटेक की सालाना फीस करीब 2 लाख 50 हजार रुपए है।

इंडियन मेरीटाइम यूनिवर्सिटी में लॉ के मास्टर कोर्स में प्रवेश
इंडियनमेरीटाइम यूनिवर्सिटी, चेन्नई के एलएलएम कोर्स में प्रवेश के लिए छात्र 1 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं। एडमिशन कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट)-2014 के स्कोर के आधार पर मिलेगा। इस कोर्स में प्रवेश लेकर छात्र मेरीटाइम लॉ में स्पेशलाइजेशन हासिल कर सकेंगे।

एलिजिबिलिटी (Eligibility)
 50फीसदी अंकों के साथ लॉ में बैचलर डिग्री। एससी/एसटी छात्रों के लिए 45 फीसदी अंक जरूरी। इसके अलावा इस साल क्लैट में शामिल हुए हों।
स्टाइपेंड (Stipend)
इंडियनमेरीटाइम यूनिवर्सिटी में एलएलएम की सालाना ट्यूशन फीस 1.75 लाख रु. है। नाल्सार यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, हैदराबाद में मास्टर कोर्स की सालाना फीस 65 हजार रु. है।
नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी के मास्टर कोर्स में प्रवेश
नेशनलकाउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी तथा इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी द्वारा संचालित एमएससी-हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन कोर्स में प्रवेश के लिए छात्र 8 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं। एडमिशन क्वालिफाइंग एग्जाम के आधार पर मिलेगा। इसके जरिए छात्र इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट के नई दिल्ली, बेंगलुरू, चेन्नई और लखनऊ कैंपस में प्रवेश हासिल कर सकते हैं।

एलिजिबिलिटी (Eligibility)
 होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी में बैचलर डिग्री। इस साल फाइनल ईयर की परीक्षा देने वाले छात्र भी आवेदन कर सकते हैं।
रिजल्ट: 29 अगस्त, 2014

फीस (Fee Structure)
एमएससी-हॉस्पिटलएडमिनिस्ट्रेशन कोर्स की प्रति सेमेस्टर फीस करीब 50 हजार रुपए है। मणिपाल यूनिवर्सिटी में इस कोर्स की फीस करीब 80 हजार रुपए प्रति सेमेस्टर है।

इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के पीजी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, कालीकट में इंफॉर्मेशन सिक्योरिटी एंड क्लाउड कंप्यूटिंग के पीजी डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश के लिए छात्र 13 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं। एडमिशन क्वालिफाइंग एग्जाम के आधार पर मिलेगा।

एलिजिबिलिटी (Eligibility)
इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर साइंस या इलेक्ट्रॉनिक्स में बीई, बीटेक, एमटेक, बीएससी या एमएससी की डिग्री।
फीस (Fee Structure)
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में पीजी डिप्लोमा कोर्स की कुल फीस 73 हजार रुपए है।

यूरोपीय देशों में शुरू होंगे भारतीयों के लिए इंग्लिश मीडियम के कोर्स
जर्मनी, नीदरलैंड्स, फ्रांस, स्पेन और इटली जैसे यूरोपीय देश भारतीय छात्रों को आकर्षित करने के लिए इंग्लिश मीडियम के कोर्सेस शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं। इन देशों के कई संस्थान दुनिया के टॉप इंस्टीट्यूट्स में गिने जाते हैं, लेकिन यहां भारतीय छात्रों की संख्या काफी कम है। इसका कारण यह है कि इन देशों में पढ़ाई का माध्यम स्थानीय भाषा होती है। वहीं, अमेरिका, इंग्लैंड, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में बड़ी संख्या में भारतीय छात्र हर साल पढ़ने जाते हैं क्योंकि इन देशों में पढ़ाई का माध्यम इंग्लिश है।

अब तीन साल तक वैलिड रहेगा गेट का स्कोर (GATE Graduate Aptitude Test Alert)
ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) का स्कोर अब तीन साल तक वैलिड रहेगा। इससे उन छात्रों को फायदा होगा जो मास्टर डिग्री में एडमिशन लेने से पहले वर्क एक्सपीरियंस हासिल करना चाहते हैं। गेट स्कोर के आधार पर सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में छात्रों को नियुक्त भी किया जाता है। लेकिन कई बार ऐसे मौके दो-तीन साल के बाद मिलते हैं। यह आिर्थक रूप से कमजोर छात्रों के लिए भी लाभप्रद होगा जिन्होंने लोन लेकर बैचलर डिग्री पूरी की है। ऐसे छात्र बीटेक करने के तुरंत बाद प्लेसमेंट की तलाश में रहते हैं ताकि लोन वापस कर सकें। लेकिन इस प्रयास में उन्हें मास्टर कोर्स में एडमिशन लेने में दिक्कत आती है क्योंकि अक्सर इससे पहले ही गेट स्कोर की वैलिडिटी खत्म हो जाती है और उन्हें दोबारा परीक्षा में शामिल होना पड़ता है।
 
Top