Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

आपकी कदमों पर नजर रखेगा पीडोमीटर एप। इससे हाइपरटेंशन, ब्लड प्रेशर आदि पर कंट्रोल कर सकेंगे।

भागदौड़ भरी लाइफ में सेहत पर ध्यान देना मुश्किल हो रहा है। बिजी शेड्यूल के चलते खुद को फिट रखने का समय भी नहीं मिल पाता है। ऐसे में अगर सिर्फ वॉकिंग को अपनी डेली रुटीन में शामिल किया जाए तो इससे सिर्फ बीमारियों से बचा जा सकता है बल्कि दिनभर तरोताजा महसूस किया जा सकता है। इसके लिए स्मार्टफोन आपकी मदद कर सकता है। हाल ही में लॉन्च हुए एक एप से दिनभर पैदल चलने का लेखा-जोखा मालूम किया जा सकता है। इसके अलावा एक स्टडी में यह सामने आया है कि दिनभर में 10 हजार कदम चलने से कई बीमारियों से दूर रहा जा सकता है।

running walk pedometer app
पीडोमीटरएप रखेगा अपडेट
पीडोमीटर एप दिनभर चले आपके कदमों की डीटेल रखता है। हम पूरे दिन कितने किलोमीटर चले, किस स्पीड में और कितने स्टेप्स चले। इन सबके बारे में यह एप बता सकता है। एक्सेलिरोमीटर सेंसर वाले स्मार्टफोन में यह एप डाउनलोड कर हम अपने पूरे दिन के कदमों का लेखा-जोखा रख सकते हैं। ये एप हमें ज्यादा चलने के लिए मोटिवेट भी करता है। पीडोमीटर के अलावा मूव्स, रॉनटास्टिक, एक्यूपीडो और नोम वॉक एप्स भी अवेलेबल हैं।
10 हजार कदम चलने के फायदे
दस हजार कदम चलना हर आयु वर्ग के लोगों के लिए फायदेमंद होता है। सिटी के डॉक्टर्स की मानें तो अगर हम रोज ऐसा करते हैं तो इससे हम ज्यादा एनर्जेटिक फील करेंगे। समय की कमी और बिगड़ती लाइफस्टाइल के चलते जिम या योगा सेंटर में समय बिताना थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन जरूरी कामों के लिए बाइक या कार का इस्तेमाल करके पैदल चलें तो रोज 10 हजार कदम चल सकते हैं।
मसलन, मॉर्निंग वॉक, मार्केट जाना, घर के नजदीक ऑफिस हो तो पैदल चलकर जाना आदि तरीकों से हम सेहतमंद रह सकते हैं। जिस तरह मॉर्निंग वॉक से फिट रहा जाता है उसी तरह सुबह-सुबह ट्रेडमिल पर वॉक करना भी फायदेमंद है। वहीं, एक्सपर्ट्स का मानना है कि जितनी कैलोरी हम 30 मिनट के मॉर्निंग वॉक में बर्न करते हैं उतनी ही कैलोरी हम ट्रेडमिल पर सिर्फ 6 मिनट चलकर लूज कर सकते हैं।
मोर्निंग वॉक के दौरान इस तरह किया जा सकेगा पीडोमीटर एप्लिकेशन का यूज।
सामान्य व्यक्ति के लिए 10 हजार कदम चलना काफी फायदेमंद है लेकिन ओबेसिटी से ग्रसित लोगों के लिए यह नुकसानदेह है, क्योंकि ऐसे लोगों का हार्ट कमजोर होता है। उन्हें डॉक्टर से सलाह लेकर धीरे-धीरे अपना टारगेट सेट करना चाहिए कि दिनभर में उन्हें कितना चलना है।
 
Top