Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

श्रेष्ठता का अहंकार: काम, क्रोध, मोह, लोभ, अहंकार ये सभी इन्सान के दुश्मन हैं

रामकृष्ण परमहंस को अध्यात्म पर चर्चा करना बहुत अच्छा लगता था। अक्सर वे विभिन्न संप्रदायों के संतों से मिलते और गंभीर चर्चा शुरू कर देते थे। एक बार वे नागा गुरु तोतापुरी के साथ बैठे थे। 
ramkrishna paramhans hindi lifestyle
 माघ का महीना था और धूनी जल रही थी। ज्ञान की बातें हो रही थीं। तभी एक माली वहां से गुजरा और उसने धूनी से अपनी चिलम में भरने के लिए कुछ कोयले ले लिए। तोतापुरी जी को माली का इस तरह आना और बिना पूछे पवित्र धूनी छूना बहुत बुरा लगा। उन्होंने न केवल माली को भला-बुरा कहा, बल्कि दो-तीन चांटे भी मार दिए। माली बेचारा हक्का-बक्का रह गया। परमहंस की धूनी से वह हमेशा ही कोयले लेकर चिलम भरा करता था। इस घटना पर रामकृष्ण परमहंस जोर-जोर से हंसने लगे। तब नागा गुरु ने उनसे सवाल किया, ‘इस अस्पृश्य माली ने पवित्र अग्नि को छूकर अपवित्र कर दिया। तुम्हें भी इसे दो हाथ लगाने चाहिए थे पर तुम तो हंस रहे हो।’ यह सुनकर परमहंस ने जवाब दिया, ‘मुझे नहीं पता था कि किसी के छूने

भर से कोई वस्तु अपवित्र हो जाती है। अभी तक आप ‘एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति’ कह कर मुझे ज्ञान दे रहे थे कि समस्त विश्व एक ही परब्रह्म के प्रकाश से प्रकाशमान है। लेकिन आपका यह ज्ञान तब कहां चला गया, जब आपने मात्र धूनी की अग्नि छूने के बाद माली को भला-बुरा कहा और पीट दिया। आप जैसे आत्मज्ञानी को देखकर सिर्फ हंसी ही आ सकती है। यह सुनकर नागा गुरु बहुत लज्जित हुए। उन्होंने माली से क्षमा मांगी और परमहंस के सामने प्रतिज्ञा की कि आगे ऐसी गलती कभी नहीं करेंगे।

रामकृष्ण परमहंस हिंदी ज्ञान ,  हिंदी कहानी श्रेष्ठता का अहंकार, ramkrishna paramhans quotes in hindi, hindi quotes of ramkrishna paramhans, ramkrishna paramhans wiki, experience stories of ramkrishna paramhan, lesson stories of ramkrishan paramhans, hindi stroies of ramkrishna paramhans

 
Top