Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला बालिग को अब अपनी मर्जी से विवाह का अधिकार

अपने परिवार की र्मजी के विरुद्ध विवाह करने वाली 19 वर्षीय लड़की की मदद के लिए सोमवार को सुप्रीम कोर्ट आगे आया। कोर्ट ने स्पष्ट निर्देशों के साथ लड़की को नारी निकेतन से रिहा करने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि लड़की अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र है।
supreme court judgement of marriage act
प्रधान न्यायाधीश आरएम लोढा की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने कहा, ‘उसे आजाद किया जाए। उसे निकास द्वार से बाहर ले जाया जाए। पुलिसकर्मियों को इसमें कुछ नहीं करना है। वह कहीं भी जा सकती है।’ कोर्ट ने इस लड़की से संबंधित सारे दस्तावेजों के प्रति पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ही उसे अपनी र्मजी से जाने की इजाजत दी।
इन दस्तावेजों से पता चला कि युवती नाबालिग नहीं है जैसा कि उसके माता-पिता का दावा था। उनके इसी कथन के आधार पर लड़की को राजस्थान हाईकोर्ट ने जयपुर में नारी निकेतन भेजा था।
कोर्ट ने गत शुक्रवार को गाजियाबाद की लड़की के पति की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर नारी निकेतन के अधीक्षक को नोटिस जारी किया था। व्यक्ति ने 16 जून को लड़की से विवाह किया था। कोर्ट के आदेश पर युवती को सोमवार को पेश किया गया। लड़की ने कोर्ट में बताया कि उसने अपने माता-पिता की र्मजी के खिलाफ शादी की है, लेकिन वह अपनी जन्मतिथि के बारे में जवाब नहीं दे सकी थी। उसका कहना था कि वह इन सवालों को समझने में अक्षम है। लेकिन लड़की के वकील ने कहा कि उसके पिता ने गुमशुदगी की रिपोर्ट में उसके जन्म का वर्ष 1995 दर्ज कराया और इस तरह वह पहले ही बालिग हो चुकी है। “नारी निकेतन से लड़की को किया जाए रिहा”: सीजेआई

sc court new petitions and decision, supreme court comments about right to marriage act, latest updates from supreme court of india, hindi kanoon news of supreme court, Is Marriage a Civil Right, Freedom to Marry, right to marriage act, right to marriage supreme court, constitutional right to marriage, ight to marry in constitution, the right to marriage and family, right of marriage catholic, when was the first marriage

 
Top