Menu

company secretary course details after graduation and fee structuredetails after graduationकिसी कंपनी का कार्य और विकास ठीक ढंग से हो रहा है या नहीं, ऐसी बातों को देखने-परखने की जिम्मेदारी कंपनी सेक्रेटरी की होती है। मैनेजमेंट, फाइनेंस, लॉ और कॉरपोरेट गवर्नेंस जैसे विभिन्न विषयों की जानकारी उसके लिए जरूरी है। लड़कियों के लिए भी यह बेहतर कैरियर विकल्प है।
कैसे होती है शुरुआत (How to Become Company Secretary CS):इंस्टीटूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) देश में अपने विभिन्न सेंटर के जरिए तीन स्तरीय कोर्स कराता है। सीएस बनने के दो रास्ते हैं- पहला 12वीं के बाद और दूसरा स्नातक के बाद। 12वीं पास छात्र को तीन स्तरीय कोर्स करना होता है। पहले स्टेज पर फाउंडेशन, दूसरे पर एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम और तीसरे स्तर पर प्रोफेशनल प्रोग्राम होता है। स्नातक पास छात्र को दो स्तरीय कोर्स करना होता है। उसे फाउंडेशन की जरूरत नहीं पड़ती। सीएस कोर्स में दाखिला पूरे साल खुला रहता है। इसके लिए प्रवेश परीक्षा या साक्षात्कार नहीं होता। सिर्फ रजिस्ट्रेशन कराना ही काफी है। इसमें किसी भी संकाय केछात्र दाखिला ले सकते हैं। इससे जुड़ी संस्था पत्राचार माध्यम से छात्रों को प्रशिक्षित करती है और नामांकन के समय सभी विषयों पर सामग्री उपलब्ध कराती है। अध्ययन के लिए ऑनलाइन पोर्टल www.elearning.icsi.edu भी हमेशा खुला रहता है।

कब होता है दाखिला (When We can Take Admission CS Course)

कोर्स में दाखिला पानेवालों के लिए परीक्षा साल में दो बार जून और दिसम्बर में होती है, पर इसके लिए पहले रजिस्ट्रेशन कराना होता है। फाउंडेशन और एग्जीक्यूटिव, दोनों ही प्रोग्राम्स के लिए रजिस्ट्रेशन लगभग छह महीने पहले कराना होता है।

कोर्स की रूपरेखा (Company Secretary Course Syllabus and Process)

फाउंडेशन प्रोग्राम में चार पेपर होते है, जिनमें अंग्रेजी, बिजनेस कम्युनिकेशन, अर्थशास्त्र, सांख्यिकी, फाइनेंशियल एकाउंटिंग, बिजनस लॉ आदि विषयों के बारे में जानकारी दी जाती है। एग्जीक्यूटिव कोर्स के छह पेपर्स में जनरल व कॉमर्शियल लॉ, कॉस्ट एकाउंटिंग, टैक्स लॉ आदि के बारे में बताया जाता है। एग्जीक्यूटिव कोर्स को पूरा करने के बाद प्रोफेशनल प्रोग्राम में अलग-अलग मॉडूल्स में 8 पेपर की पढ़ाई होती है। इनमें फॉरेक्स मैनेजमेंट, एडवांस्ड टैक्स लॉ ऐंड प्रैक्टिस, गवर्नेंस, बिजनस एथिक्स आदि के बारे में बताया जाता है। एग्जीक्यूटिव और प्रोफेशनल परीक्षा पास करने के बाद छात्रों को आवश्यक प्रैक्टिकल और मैनेजमेंट ट्रेनिंग के लिए जाना पड़ता है। इसके बाद ही उन्हें कंपनी सेक्रेटरी की योग्यता प्रदान की जाती है। सीएस प्रोफेशनल प्रोग्राम पूरा करने के बाद छात्र एसोसिएट मेम्बर के रूप में संस्थान में अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता है और अपने नाम के बाद ‘एसीएस’ लिख सकता है।
संस्थान (CS Company Secretary Institutes in India)
मुख्य संस्थान का पता : आईसीएसआई हाउस, 22, इंस्टीटूशनल एरिया, लोदी रोड, नई दिल्ली
  • वेबसाइट :
  • www.icsi.edu
  • नोएडा सेंटर का पता : सी-37, सेक्टर - 62, नोएडा -201301 (उत्तर प्रदेश)
 
Top