Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

भारतीय लोग पश्चिमी से सभ्यता की ओर अग्रसर हो रहे हैँ जबकि विदेशी लोग भारतीय संस्कृति को पसंद करते हैँ और उस को अपनाते हैँ आखिर ऐसा क्योँ भारतीय  सभ्यता मेँ हर प्रकार के गुणोँ समाहित हैं चाहे वो वैज्ञानिकोँ हों या तार्किक
आने वाले कुछ दिनोँ मेँ यह कहावत सटीक बैठेगी हिंदुस्तानियोँ के प्रति कव्वा चला हंस की चाल अपनी भी चाल भूल बैठा
भारत के अंदर दो हिंदुस्तान रहते हैं एक पुराना भारत और एक नया भारत पुराना भारत पुराने भारतीय चाहते हैँ कि हमारा खान पान रहन सहन पुराने तरीके से हो लेकिन नई जनरेशन जाती है कि हम नई पीढ़ी के आदमी हैँ हमेँ अपने अनुसार रहने की आजादी दी जाए और न ही भारत के पास वह एनवायरमेंट है जो कि पश्चिमी सभ्यता के पास है न ही इतना इंफ्रास्ट्रक्चर है और न ही हमारी विचारोँ का इतना विकास हुआ है कि हम उनको समाहित कर सकें
हमारे माता पिता चाहते हैँ कि हम उनके इशारोँ पर चलेँ लेकिन हमारी नई पीढ़ी चाहती हैँ कि हमेँ अपने आजादी चाहिए
इसलिए भाइयोँ और बहनोँ भारतीय सभ्यता से अच्छी सभ्यता किसी देश मेँ नहीँ है इसमेँ माँ बाप को आदर भाई बहन को प्यार पत्नी को घरस्थि बच्चों को जीवन
क्या आप जानते हैं की पश्चिमी सभ्यता में लोग अपने बच्चे के लिए कुछ नही करते कमाते हैं और खाते हैं
यदि आप लोगोँ को पश्चिम सभ्यता अच्छी लगती है और आप सोचते हो कि आप मॉडर्न हो गए हो ठीक है आप किसी पार्क मेँ जाइए यदि आपके बच्चे हैँ  यदि आपके पास एक लड़की है और उसका बॉयफ्रेंड उसको किसी पार्क मेँ बैठकर किस करता है और यदि आप खुश होते हैँ तो समझ लीजिए कि आपको पश्चिमी सभ्यताअच्छी लगती है यदि आपको गुस्सा आता है तो आप समझ लीजिए भारतीय सभ्यता से अच्छी कोई सभ्यता नहीँ है और हमेँ इससे खुश होना चाहिए की हम ऐसे देश के नागरिक हैँ ऐसी सभ्यता के ए प्राणी है  जोकि पृथ्वी की सबसे सर्वोत्तम धरती पर हम पैदा हुए हैँ
इसलिए बोलो जय भारत
धन्यवाद

 
Top