Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

बढ़ती मांग के मद्देनजर आज के माहौल में वीडियो और फिल्म एडिटिंग (Video and Film Editing)  से संबंधित कोर्स कॅरियर निर्माण में काफी सहायक है आइये जानते हैं Video and Film Editing में कहाँ से course व क्या होनी चाहिए eligibility qualification इसको करने के लिए
बात इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की हो या धारावाहिकों के निर्माण की, फिल्म निर्माण की हो या वीडियो एलबम बनाने की, विज्ञापन तैयार करने की हो या डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने की, वीडियो एडिटर ऐसे कार्यों का अनिवार्य हिस्सा बने रहते हैं। वैसे तो फिल्म या वीडियो बनाने में कई तरह के प्रोफेशनल्स की जरूरत होती है, लेकिन फिल्म या वीडियो निर्माण से संबंधित किसी भी मामले में वीडियो एडिटरों की मदद के बगैर उसे अंतिम रूप नहीं दिया जा सकता है। न सिर्फ विभिन्न भाषाओं में फिल्मों के निर्माण की रफ्तार में तेजी आ रही है, बल्कि चैनलों की संख्या भी निरंतर बढ़ती जा रही है। ऐसे में वीडियो और फिल्म एडिटर की जरूरत भी निरंतर बढ़ रही है।
कार्य प्रकृति (Nature of Work):फुटेज को कैप्चर करना, फुटेज की एडिटिंग, विजुअल्स को एडजस्ट करना, म्यूजिक और साउंड को मिक्स करना आदि विभिन्न कार्य वीडियो एडिटिंग के तहत किए जाते हैं। वीडियो एडिटरों द्वारा नॉन लीनियर एडिटिंग का ही इस्तेमाल मुख्य रूप से होता है। आज डिजिटल वीडियो एडिटिंग का चलन है, जिसके लिए विभिन्न एडिटिंग सॉफ्टवेयर को प्रयोग में लाया जाता है, जैसे विंडोज मूवी मेकर, फाइनल कट प्रो, अनलीड मीडिया स्टूडियो आदि। वीडियो और फिल्म एडिटिंग के तहत अभ्यर्थियों को समस्त नई तकनीकों से अवगत रहना पड़ता है।
कोर्स कैसे-कैसे (Types of Courses):सर्टिफिकेट कोर्स इन वीडियो एडिटिंग, डिप्लोमा इन फिल्म एडिटिंग, डिप्लोमा इन वीडियो एडिटिंग एंड साउंड रिकॉर्डिंग, डिप्लोमा इन पोस्ट प्रोडक्शन वीडियो एडिटिंग आदि इस फील्ड से संबंधित प्रमुख कोर्स हैं। ये कोर्स देश के विभिन्न निजी और सरकारी संस्थानों में उपलब्ध हैं। अलग-अलग पाठ्यक्रमों की अवधि अलग-अलग हो सकती है। रेगुलर कोर्स के अलावा इस क्षेत्र में विभिन्न शॉर्ट टर्म कोर्स भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा कई संस्थानों में उच्च स्तरीय स्पेशलाइज्ड कोर्स भी हैं।
शैक्षणिक योग्यता (Eligibility Criteria): 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद फिल्म और वीडियो एडिटिंग से संबंधित विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिला लिया जा सकता है। हालांकि कई ऐसे कोर्स हैं, जिनमें नामांकन के लिए ग्रेजुएशन की मांग की जाती है। कई संस्थानों में शैक्षणिक योग्यता के आधार पर ही दाखिला मिल जाता है, जबकि एफटीआईआई में दाखिले के लिए अभ्यर्थियों को एंट्रेंस टेस्ट में बैठना पड़ता है।
मौके कहां-कहां
कोर्स करने के बाद वीडियो एडिटर को विभिन्न चैनलों में अवसर मिलते हैं। नियमित जॉब के अलावा आप फ्रीलांसर के रूप में भी इस क्षेत्र में अपनी सेवा दे सकते हैं। आपकी तकनीकी जानकारी जितनी गहरी होगी तथा आपका अनुभव जितना अधिक होगा, आपको उतने ही बेहतर मौके मिलेंगे। चैनल चाहे जिस भी विषय से संबंधित हो, वीडियो एडिटर के लिए अवसर उपलब्ध होते ही हैं। इनसे संबंधित रिक्तियों पर नजर रखें। चैनलों के अलावा फिल्म प्रोडक्शन हाउस और म्यूजिक कंपनियों में भी ऐसे अभ्यर्थी मौके पाते हैं। विज्ञापन एजेंसियों में, खासकर टीवी के लिए विज्ञापनों के निर्माण में ऐसे प्रोफेशनल्स की जरूरत बनी रहती है।
  • फिल्म ऐंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे
  • www.ftiindia.com
  • सत्यजीत रे फिल्म ऐंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट, कोलकाता
  • www.srfti.gov.in
  • आईआईएमसी, नई दिल्ली
  • www.iimc.nic.in
  • एकेडमी ऑफ एनिमेशन आर्ट ऐंड टेक्नोलॉजी, कोलकाता
  • www.animationacademyindia.com
  • एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन, नोएडा
  • www.aaft.com
  • एडिटवर्क्स स्कूल ऑफ मास कम्युनिकेशन, नोएडा
  • www.editworksindia.com
  • एनआरएआई स्कूल ऑफ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
  • www.nraismc.com 
 
Top