Menu

petroleum engineering salary
पेट्रोलियम ऊर्जा का मुख्य स्रोत है जिसका 21 वीं सदी में बड़े स्तर पर उपयोग किया जाता है। पूरी दुनिया में पेट्रोलियम उत्पादों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती मांग को कैसे पूरा करा जाए यह प्रश्न आज पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इसलिए यह प्रयास किया जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा पेट्रोलियम उत्पादों की तलाश की जाए, जिससे पेट्रोलियम के उत्पादन को बढ़ाया जा सके। पेट्रोलियम उत्पादों की तलाश करने के लिए कुशल लोगों की जरूरत पड़ रही है, जो इस क्षेत्र से संबंधित जानकारी रखते हो, इसलिए पेट्रोलियम इंजीनियरों की जरूरत होती है।

Petroleum engineering job description

बारहवीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स, बायोलॉजी विषय होने चाहिएं। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग के बीई/बीटेक कोस में एडमिशन के लिए एंट्रेंस टेस्ट का आयोजन होता है। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग करने के लिए जेईई जैसी परीक्षा या फिर संबंधित संस्थान की प्रवेश परीक्षा उतीर्ण होना जरूरी है। यह कोस चार वर्ष का होता है। इसमें डिप्लोमा कोर्स भी किया जा सकता है। कुछ संस्थानों में एडमिशन 12वीं के अंकों के आधार पर भी होता है। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में एमटेक करने के लिए केमिकल या पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में बीटेक/बीई होना चाहिए, इसके अलावा पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में एमएससी की डिग्री भी हासिल की जा सकती है।
पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में देश-विदेश दोनों ही में बहुत अच्छी संभावनाएं हैं। कोर्स कर लेने के बाद के पद पर प्रसिद्ध कंपनियों और संगठनों जैसे ऑयल पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया, आयल एंड नेशनल गैस कमीशन, रिलायंस पेट्रोलियम इंडस्ट्रीज, भारत पेट्रोलियम आदि में जॉब की तलाश की जा सकती है। इसके अलावा आयल एक्सप्लोरेशन ऑर्गनाइजेशन, पेट्रोलियम एंड आयल कंपनीज, रिफायनरीज, प्राइवेट आयल इंडस्ट्रीज, गैस इंस्टीटयूशंस में भी रोजगार के काफी अवसर हैं। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग करने के बाद प्रोफेशनल करियर के अलावा रिसर्च के क्षेत्र में भी मौके हैं।

आमदनी की आकर्षक राह petroleum engineering starting salary

पेट्रोलियम इंजीनियरिंग आमतौर पर कम ही छात्र करते हैं, इसलिए इस सीमित क्षेत्र की आवश्यकता की पूर्ति के लिए जितने पेट्रोलियम इंजीनियरों की आवश्यकता होती है, वे भी उपलब्ध नहीं हो पाते हैं, इसलिए इन्हें अच्छे वेतन पर आकर्षक रोजगार देने के लिए पेट्रोलियम कंपनियां हमेशा तैयार रहती हैं।
एक पेट्रोलियम इंजीनियर का औसत वेतन लगभग 8,00,000 रुपये प्रतिवर्ष तक होता है। कार्यक्षेत्र का
अनुभव आय पर जोरदार प्रभाव डालता है और जैसेजैसे अनुभव बढ़ता है आय में इजाफा होता है।
अवसरों का भंडार (opportunities For
पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में देश-विदेश दोनों ही में बहुत अच्छी संभावनाएं हैं। कोर्स कर लेने के बाद के पद पर प्रसिद्ध कंपनियों और संगठनों जैसे ऑयल पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड, गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया, आयल एंड नेशनल गैस कमीशन, रिलायंस पेट्रोलियम इंडस्ट्रीज, भारत पेट्रोलियम आदि में जॉब की तलाश की जा सकती है। इसके अलावा आयल एक्सप्लोरेशन ऑर्गनाइजेशन, पेट्रोलियम एंड आयल कंपनीज, रिफायनरीज, प्राइवेट आयल इंडस्ट्रीज, गैस इंस्टीटयूशंस में भी रोजगार के काफी अवसर हैं। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग करने के बाद प्रोफेशनल करियर के अलावा रिसर्च के क्षेत्र में भी मौके हैं।

प्रमुख संस्थान इस प्रकार से हैं petroleum engineering colleges


  • स्कूल ऑफ पेट्रोलियम मैनेजमेंट गांधीनगर 
  • www.spm.pdpu.ac.in
  • इंडियन स्कूल ऑफ माइंस, धनबाद 
  • www.ismdhanbad.ac.in
  • महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, पुणे 
  • www.mitpune.com
  • Rajiv Gandhi Institute of पेट्रोलियम टेक्नोलॉजी, रायबरेली 
  • www.rgipt.ac.in
  • उतरांचल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी 
  • www.uitdehradun.com


 
Top