Menu

Follow by Email

Subscribe us Follow by Email

Career in Choreography & Dance in
नृत्य कला को भारत की प्राचीनतम कलाओं में से एक माना जाता है तथा वर्तमान में भी इस कला को उतनी ही अहमियत दी जाती है, जितनी प्राचीन काल में दी जाती थी। भारतीय नृत्य कला एक ऐसा हुनर है, जिसमें काफी परिश्रम एवं साधना की आवश्यकता होती है। वर्तमान समय में नृत्य के क्षेत्र में करियर की संभावनाएं हैं। आपने कई बार टेलीविजन चैनलों पर कोरियोग्राफर (नृत्य संरचनाकार) को सीखने वालों को प्रशिक्षण देते हुए देखा होगा। एक पेशेवर करियर के तौर पर देखें तो कोरियोग्राफर ऐसे नृत्य प्रशिक्षक होते हैं, जो अपने छात्रों के भीतर से नृत्य से जुड़ी प्रतिभा को बाहर निकालने के लिए तमाम कोशिशें करते हैं। एक कोरियोग्राफर में ये खासियत होनी चाहिए कि लोगों के अंदर नृत्य के जज्बे को पहचान सके और लोगों को डांस फ्लोर तक लाने में सफल हो सके। खासतौर से बड़े शहरों में लोग खुद को स्वस्थ रखने के लिए भी डांस करते हैं। गौरतलब है कि कोरियोग्राफर नृत्य करने वालों के मूवमेंट्स को समरूपता प्रदान करता है।
Career in Choreography & Dance in India: Courses, Admission

कोरियोग्राफर अपनी स्वयं की रचनाएं भी करते हैं और तरह-तरह के संगीत पर उसका समायोजन करते हैं। इसके साथ ही स्टेज पर नृत्य के लिए तमाम आवश्यकताओं का ध्यान रखना, डांसर्स की कॉस्ट्यूम व संबंधित अन्य चीजों के बारे में निर्णय लेना भी कोरियोग्राफर का ही काम होता है। वह परफॉर्मेस में अपना विजन लाने का प्रयास करता है और इस तरह का काम वही व्यक्ति कर सकता है, जो स्वयं इस विधा में पारंगत हो। अत: यदि आप भी कोरियोग्राफी के क्षेत्र को अपनाने के विषय में सोच रहे हैं तो यह एक अच्छा करियर हो सकता है।
एक अच्छा कोरियोग्राफर बनने के लिए आपको अनेक नृत्य शैलियों में प्रशिक्षित होना होगा। विभिन्न नृत्य शैलियों में शिक्षित होने के लिए काफी लंबे समय तक कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। एक प्रशिक्षक में खुद अच्छा डांस दिखाकर प्रशिक्षण देने की योग्यता अवश्य होनी चाहिए। इसके लिए आपको किसी अच्छे गुरू अथवा जाने-माने डांस ग्रुप के साथ या कोरियोग्राफर से नृत्य की शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए। यकीनन सभी कोरियोग्राफर मूल रूप से बहुत अच्छे डांसर होते हैं, लेकिन सभी डांसर कोरियोग्राफर नहीं होते हैं। डांसर्स को अभ्यास और प्रतिभा दोनों की आवश्यकता होती है जबकि कोरियोग्राफर में अनुभव, कल्पनाशीलता और नया सृजन करने की क्षमता भी होनी चाहिए।
फिल्म एंड म्यूजिक वीडियो कोरियोग्राफर, इवेंट कोरियोग्राफर और अन्य क्षेत्रों में योग्य उम्मीदवार अपना चमकीला करियर बना सकते हैं। मॉडलिंग के क्षेत्र में रैम्प पर भी आजकल मॉडल्स संगीत की स्वर लहरियों के साथ कैटवॉक करती नजर आती हैं। इन मॉडल्स को इस हुनर में माहिर करने का काम फैशन कोरियोग्राफर करते हैं। कोरियोग्राफर बनने के लिए रचनात्मकता तो उम्मीदवार में सर्वोपरि है ही, लेकिन इस क्षेत्र का गहरा ज्ञान, कल्पनाशीलता, घंटों तक अभ्यास करने और करवाने की क्षमता, धैर्य, लय-ताल का ज्ञान, संगीत की अच्छी समझ, प्रस्तुतिकरण में दक्षता भी बहुत जरूरी है। उम्मीदवार की फिजिकल फिटनेस भी इस क्षेत्र में काफी मायने रखती है। एक अच्छा कोरियोग्राफर बनने के लिए आपको ऊर्जा से भरपूर होना चाहिए। आप में अच्छी संवाद क्षमता होनी चाहिए। इस क्षेत्र से जुड़ने के दो तरीके हो सकते हैं। पहला तरीका यह कि औपचारिक यानी इस क्षेत्र से संबंधित कोस करके यहां कदम रखा जा सकता है। दूसरा तरीका अनौपचारिक है यानी म्यूजिक, डांस और ड्रामा के किसी समूह से जुड़ कर इस क्षेत्र में आ सकते हैं। रचनात्मकता को समझने की योग्यता होनी चाहिए। मानसिक चित्रण की योग्यता तथा नई चीजों को जानने की उत्सुकता होनी चाहिए। देश के कई संस्थान नृत्य में एक और दो वर्षीय पाठयक्रम संचालित करते हैं। इन कोर्सेस के लिए उम्मीदवार का बारहवीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है। कुछ प्रतिष्ठत कोरियोग्राफरों ने अपने प्रशिक्षण संस्थान भी स्थापित किए हुए हैं। इनके माध्यम से उम्मीदवार को न केवल प्रशिक्षण मिलता है बल्कि आवश्यकता पड़ने पर वे इनकी मदद से फिल्मों और टेलीविजन में भी काम प्राप्त कर सकते हैं। आपको प्रशिक्षण के उपरांत किसी अच्छे कोरियोग्राफर के साथ 12 वर्षों तक काम करना चाहिए और नृत्य की कई शैलियों में खुद को परिपक्व बनाना चाहिए। प्रशिक्षण एवं अनुभव के उपरांत आप अपना डांस स्कूल भी खोल सकते हैं। कोरियोग्राफर के लिए अवसरों की कोई कमी नहीं है। वे टेलीविजन, फिल्म, वीडियो कंपनियों, निजी एजुकेशनल सेवाओं, मॉडलिंग एजेंसियों और इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों के साथ काम कर सकते हैं। डांस स्टूडियो, यूनिवर्सिटी, परफॉर्मिग आर्ट कंपनियों में भी उनके लिए काम की कमी नहीं है। कोरियोग्राफर के रूप में एक बार स्वयं को स्थापित कर लेने के बाद नाम और धन दोनों ही आपके पास होंगे। कार्य और अनुभव के आधार पर उम्मीदवार की आय भी तय हो जाती है। अंतत: यह कहा जा सकता है कि भारत में कोरियोग्राफी के क्षेत्र में करियर संभावनाएं हैं।
  • संगीत नाटक अकादमी नई दिल्ली
  • भारतीय कला केंद्र नई दिल्ली
  • फैकल्टी ऑफ़ आर्ट्स मैसुर, यूनिवर्सिटी ऑफ़ मैसुर
  • गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ़ डांस एंड म्यूजिक भुवनेश्वर
  • श्यामक डावर इंस्टीट्यूट फॉर परफॉर्मिण आर्टस मुंबई
  • डांस वर्क परफॉर्मिण आर्टस एकेडमी नई दिल्ली
  • नात्या इंस्टीटयूट ऑफ कथक एंड कोरियोग्राफी, बंगलूरू
  • आनंद शंकर सेंटर ऑफ परफॉमिंग आर्टस, कोलकाता
  • जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर





 
Top