Menu

फ्री में रु.1000 का मोबाइल रिचार्जे करे, 100% working!

आख़िरकार दिल्ली यूनिवर्सिटी के उचाधिकारी हो गये यूजीसी के फैसले से सहमत

सत्र 2014-15 के लिए नामांकन प्रक्रिया को लेकर जारी अनिश्चितता खत्म हो गई। एफवाईयूपी के कारण डीयू और यूजीसी के बीच विवाद गहरा गया था। विवि के 64 कॉलेजों में 54,000 सीटों के लिए नामांकन के वास्ते 2.7 लाख से ज्यादा छात्रों ने आवेदन किया है। लेकिन अब यूजीसी के दबाव के आगे झुकते हुए डीयू ने विवादास्पद चार-वर्षीय स्नातक कार्यक्रम (एफवाईयूपी) को रद कर दिया है। एफवाईयूपी का विस्तार हम बताना चाहेंगे की इसका मलतब होता है फोर इयर अंडर ग्रेजुएट प्रोग्राम विवि ने तीन-वर्षीय स्नातक कार्यक्रम के पुराने ढांचे को फिर से अपनाने की घोषणा की। इसके लिए दाखिले सोमवार से शुरू हो सकते हैं।
admission process of du delhi university

 डीयू कुलपति दिनेश सिंह ने कहा कि सभी संबद्ध विश्वविद्यालयों के प्रिंसिपलों से नए सत्र में दाखिला शुरू करने को कहा गया है। सिंह ने कहा, यूजीसी के निदेशरें के अनुरूप विश्वविद्यालय ने एफवाईयूपी को वापस लेने का निर्णय किया है। इसी के अनुरूप दाखिला प्रक्रिया शैक्षणिक सत्र 2012-13 में दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेजों में लागू पाठ्यक्रम के तहत होगी। इस निर्णय के बाद शैक्षणिक सत्र 2014-15 के लिए दाखिला प्रक्रिया पर जारी अनिश्चितता पर विराम लग गया। इससे पूर्व, डीयू के कुलसचिव ने यूजीसी को चिट्ठी लिखकर यूजीसी के निर्देशों पर अमल करने और तीन साल के कोर्स पर सहमति जताई। सोमवार से 3 साल के ग्रैजुएशन प्रोग्राम में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो सकती है।
दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टैंडिंग कमिटी द्वारा दिए गये प्रस्ताव को युजीसी ने ठुकराया
यूजीसी की स्टैंडिंग कमेटी ने डीयू द्वारा गुरुवार को भेजे गए शिक्षाविदों के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। कमेटी ने प्रस्ताव भेजने वाले लोगों की वैधता पर सवाल उठाते हुए उसे सिरे से नकार दिया। बता दें कि यूजीसी ने एफवाईयूपी के मसले पर एक स्टैंडिंग कमेटी बनायी है। वहीं जानकारी के अनुसार यूजीसी अध्यक्ष वेद प्रकाश ने गुरुवार को एक बार फिर एफवाईयूपी के मुद्दे पर यूजीसी के चेयरमैन से मुलाकात की थी।

युजीसी अथॉरिटी ने पत्र लिखकर कड़ा ऐतराज़ जताने के बाद लिया दिल्ली यूनिवर्सिटी ने फैसला:

यूजीसी द्वारा चार वर्षीय स्नातक कार्यक्रम तुरंत खत्म करने और पंजीकरण शुरू करने को लेकर कड़ा पत्र लिखे जाने के बाद कल रात यह गतिरोध खत्म हुआ। सिंह ने कहा, ‘यूजीसी के निर्देशों के अनुरूप विश्वविद्यालय ने एफवाईयूपी को वापस लेने का निर्णय किया है। इसी के अनुरूप दाखिला प्रक्रिया शैक्षणिक सत्र 2012-13 में दिल्ली विश्वविद्यालय के कालेजों में लागू पाठ्यक्रम के तहत होगी।’

अब श्रीमान उपकुलपति दिनेश सिंह ने क्या कहा    

“उपकुलपति दिनेश सिंह ने कहा कि यूजीसी के निदेशरें के मुताबिक एफवाईयूपी को रोलबैक करना समय की मांग है। अब छात्रों के दाखिले शैक्षणिक सत्र 2012-13 के अनुसार ही होंगे। छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए यह सबसे जरूरी है। इससे दाखिला प्रक्रिया शुरू हो सकेगी”।
अब क्या होगा उन छात्रो का जिन्होंने पिछले साल चार साल में दाखिला लिया था?
उन छात्र छात्राओं के लिए भी बीच का रास्ता अख्तियार कर लिया गया उनको या तो पांच साल में मास्टर डिग्री ले सकते हैं या फिर चार साल में ओनर्स की डिग्री मिलेगी या फिर वो तीन साल में भी सिंपल ग्रेजुएट की डिग्री ले सकते हैं
delhi university news, when will be admission starts in du, ugc vs delhi university news, news about new admission in du, du.ac.in latest news, delhi university admission smachar, hindi news about delhi university, four year under graduate programme admission news delhi, latest news about delhi university

0 comments:

Post a Comment

 
Top