Menu

फ्री में रु.1000 का मोबाइल रिचार्जे करे, 100% working!

इश्यू मूल्य और बुक बिल्डिंग से समझें शेयर ट्रेड, कैसे करें ट्रेडिंग व क्या होनी चाहिए रिस्क ट्रेडिंग

निश्चित मूल्य वाला इश्यू
प्रदाता कंपनी को स्वतंत्र रूप से निर्गम(इश्यू) का मूल्य निर्धारण करने की अनुमति होती है। निर्गम मूल्य निर्धारण करने का आधार प्रस्ताव दस्तावेज में उल्लिखित होता है, जिसमें प्रदाता द्वारा निर्गम मूल्य को न्यायोचित ठहराने वाले गुणात्मक और मात्रात्मक कारकों के बारे में विस्तार से खुलासा होता है। इश्यू लाने वाली कंपनी के 20 प्रतिशत कीमत बैंड में (कैप में निर्धारित मूल्य, फ्लोर मूल्य से 20 प्रतिशत से अधिक नहीं होना चाहिए) सेबी या कम्पनी रजिस्ट्रार के साथ अंतिम प्रस्ताव दस्तावेज दाखिल करने की तारीख के एक दिन पहले निर्धारित कर सकते हैं।

learn about share trading and earning sources
मूल्य के लिए बुक बिल्डिंग प्रक्रिया

बुक बिल्डिंग का अर्थ है प्रदाता द्वारा प्रस्तावित प्रतिभूतियों की मांग जो निगमित निकाय द्वारा जारी किए जाने और उससे हासिल करने के लिए बनाया गया हो। प्रतिभूतियों की मात्रा के लिए प्राप्त बोली के आधार पर इसका मूल्यांकन किया जाता है। प्रतिभूति की कीमत खोजने के लिए इस विधि से बाजार में एक अवसर भी प्रदान किया जाता है। इस प्रक्रिया का नाम निवेशकों द्वारा मूल्य सीमा पर आधारित बोली लगाने से ही पड़ा है। बोली के समापन के बाद निर्गम मूल्य की तारीख तय की जाती है।

बुक रनर को कैसे रखे ध्यान में

एक कंपनी द्वारा आईपीओ/एफपीओ की योजना बनाने के लिए एक मर्चेंट बैंकर को बुक-रनर के रूप में नियुक्त किया जाता है। बोली अवधि के रूप में एक खास समय सीमा तय हो जाती है। बुक-रनर एक आदेश पुस्तिका होती है जो विभिन्न निवेशकों की बोली को एकत्र करती है। संभावित निवेशकों के लिए बोली लगाने की अवधि के दौरान किसी भी समय अपनी बोली को संशोधित करने की अनुमति दी जाती है। बोली अवधि के अंत में शेयरों की मात्रा और संबंधित कीमतों की पेशकश के परिणामस्वरूप आदेश पुस्तिका को बंद करने का आदेश दिया जाता है। अंतिम मूल्य का निर्धारण विभिन्न कीमतों की मांग पर आधारित होता है।

खुली व बंद बुक बिल्डिंग

बुक-बिल्ट इश्यू में यह अनिवार्य है कि मांग और बोली अवधि के दौरान बोलियों का आनलाइन प्रदर्शन किया जाए। इसे ओपेन बुक प्रणाली के रूप में जाना जाता है। जबकि बन्द बुक बिल्डिंग के तहत, बुक सार्वजनिक नहीं होती है और बोली लगाने के लिए कॉल कर वे अन्य बोलीदाताओं द्वारा प्रस्तुत बोली पर किसी भी जानकारी के बिना एक बोली लगाने का इरादा बना सकते हैं। सेबी के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक सुविधा को इस्तेमाल करने की अनुमति केवल खुली बुक बिल्डिंग के इश्यू में दी जाती है।

मूल्य का दायरा

प्रस्ताव दस्तावेज में प्रतिभूतियों के सम मूल्य या कीमत बैंड दिये हो सकते हैं, जिनके भीतर निवेशक बिड कर सकते हैं। फ्लोर और शीर्ष मूल्य बैंड के बीच 20 प्रतिशत से अधिक अन्तर नहीं हो सकता है। दूसरे शब्दों में इसका मतलब यह है कि कैप फ्लोर कीमत के अधिक से अधिक 120 प्रतिशत तक हो सकता है। कंपनी परार्मश के बाद निवेश बैंकरों के साथ कीमत बैंड तय करती है, और आमतौर पर कुछ समय तक प्रमुख योग्य संस्थागत खरीददार के साथ विपणन-पूर्व अभ्यास करने के बाद मूल्य बैंड में संशोधन करती हैं। सेबी के आवश्यकतानुसार किसी भी कीमत बैंड में संशोधन के लिए शेयर बाजारों में व्यापक रूप से प्रेस विज्ञप्ति जारी कर और प्रासंगिक वेबसाइट परिवर्तन और समूह के सदस्यों के टर्मिनलों का संकेत प्रसारित किया जाता है। जब मूल्य बैंड संशोधित किये जाते हैं तो बोली अवधि को तीन दिन की अवधि के लिए आगे बढ़ाया जा सकता है किंतु अधिक से अधिक 13 दिनों की अवधि तक ही इसे बढ़ाया जा सकता है।

फ्लोर मूल्य क्या होता है
फ्लोर मूल्य, कम से कम मूल्य जिस पर बोली बनाई जा सकती है।

कट-ऑफ मूल्य क्या होता है ?

बुक बिल्डिंग इश्यू के लिए यह आवश्यक है कि प्रदाता रेड हेरिंग सूची में मूल्य बैंड या फ्लोर मूल्य अंकित करे। वास्तविक खोज से निर्गम मूल्य कीमत बैंड में किसी भी कीमत या फ्लोर मूल्य से ऊपर नहीं हो सकती है। इस मूल्य को कटौती मूल्य कहा जाता है। प्रदाता और अग्रणी प्रबन्धकों द्वारा बुक और स्टॉक के लिए निवेशकों की आवश्यकता पर विचार के बाद फैसला किया जाता है। सेबी (डीआईपी) के दिशा-निदेशरें में अनुमति दी जाती है कि केवल खुदरा व्यक्तिगत निवेशकों के लिए कटौती मूल्य लागू करने का विकल्प हो।

अंतिम इश्यू मूल्य

कीमत बैंड के भीतर विभिन्न स्तरों पर कीमत मांग नामित शेयर बाजारों की वेबसाइटों पर पूरे कार्यकाल और के दौरान अंतिम मूल्य प्रदाता द्वारा निर्धारित निवेशकों की जानकारी के लिए उपलब्ध कराई जाती है। दिनों की न्यूनतम संख्या, जिनके लिए आईपीओ/आईएफओ अंशदान सूची खुली रहती है। निर्धारित कीमत
 

ipo kpo learning, learn online about share trading in hindi, hindi share maket learning, how to trade in share market in hindi, tips for kpo ipo, language of kpo ipo 

0 comments:

Post a Comment

 
Top