Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

बायोलॉजिकल साइंस के माध्यम से कैरियर बनाना हमेशा से ही विद्यार्थियों में लोकप्रिय रहा है। अब तो यह क्षेत्र और व्यापक हो गया है, जिसके प्रत्येक विकल्प में जॉब की संभावनाएं भरपूर हैं...
बारहवीं के बाद बड़ी संख्या में विद्यार्थी जीव विज्ञान और इससे संबंधित क्षेत्रों में कैरियर बनाना पसंद करते हैं। इसका प्रमुख कारण इस क्षेत्र में पर्याप्त मात्रा में जॉब के अवसर उपलब्ध होना ही है। आज के माहौल में बायोलॉजिकल साइंस के प्रति विद्यार्थियों की रुचि और भी बढ़ गई है। बायोलॉजिकल साइंस का संबंध सिर्फ मनुष्यों से नहीं है, बल्कि पशुओं, पेड़-पौधों और इकोलॉजी से भी इसका खास संबंध है। यही कारण है कि इस क्षेत्र से संबंधित एक-दो नहीं, बल्कि तमाम कैरियर विकल्प उपलब्ध हैं। आपको जो क्षेत्र पसंद आए, उसमें आप अपने कदम बढ़ा सकते हैं।
पैरामेडिकल (Paramedical)
मेडिकल लेबोरेट्री टेक्नोलॉजी, स्पीच थेरेपी, ऑक्यूपेशनल थेरेपी, पैथोलॉजी, रेडियोग्राफी, डेंटल मैकेनिक्स, रिहैबिलिटेशन, ऑप्टोमेट्री आदि विषयों को पैरामेडिकल के अंतर्गत रखा जाता है। पैरामेडिकल से संबंधित अधिकांश पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से 12वीं उत्तीर्ण होना जरूरी है, हालांकि 10वीं के बाद भी कुछ पाठ्यक्रमों में दाखिला लिया जा सकता है। संबंधित पाठ्यक्रमों और उनकी अवधि के बारे में विस्तृत जानकारी आप पैरामेडिकल संस्थानों और उनकी वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं। मार्केट में ट्रेंड पैरामेडिकल प्रोफेशनल्स के लिए आज अवसरों की कोई कमी नहीं है।
एमबीबीएस/बीडीएस (MBBS BDS)
एमबीबीएस/बीडीएस क्लियर कर किसी अच्छे मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेना बायोलॉजी पढ़ने वाले विद्यार्थियों का पहला लक्ष्य होता है। इससे संबंधित विभिन्न एंट्रेंस एग्जाम में शामिल होने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी (पीसीबी) से 12वीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है। जितने अच्छे मेडिकल कॉलेज में दाखिला मिलेगा, कैरियर के दृष्टिकोण से वह उतना ही महत्वपूर्ण होगा। सीबीएसई द्वारा केंद्र स्तर पर मेडिकल टेस्ट का आयोजन किया जाता है। इसके अलावा राज्य स्तरीय एंट्रेंस टेस्ट के माध्यम से भी विभिन्न संस्थानों में दाखिला मिलता है। इसकी तैयारी के लिए विभिन्न संस्थानों से कोचिंग भी ली जा सकती है।
नर्सिंग (Nursing)
10वीं और 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद नर्सिंग से संबंधित पाठ्यक्रमों में नामांकन करवाया जा सकता है। इससे संबंधित कोर्स पूरे देश में विभिन्न संस्थानों में उपलब्ध हैं। बीएससी इन नर्सिंग, एमएससी इन नर्सिंग, जनरल नर्सिंग ऐंड मिडवाइफरी (जीएनएम), हेल्थ वर्कर आदि कुछ महत्वपूर्ण कोर्स हैं। नर्सिंग के पाठ्यक्रमों के लिए पीसीबी में 12वीं उत्तीर्ण होने के बाद अप्लाई किया जा सकता है। हेल्थ वर्कर के लिए 10वीं पास आवेदन कर सकते हैं। हॉस्पिटल, क्लिनिक, मेडिकल कॉलेज, स्कूल आदि में नर्सिंग प्रोफेशनल्स के लिए अवसर उपलब्ध होते हैं।
 
Top