Menu

फ्री में रु.1000 का मोबाइल रिचार्जे करे, 100% working!

इंजीनियर बनने की तमन्ना रखने वाले नवयुवकों की पहली पसंद आईआईटी में दाखिले की होती है। इसके लिए साल में एक बार आयोजित होने वाली आईआईटी-जेईई की प्रवेश परीक्षा में सफल होना जरूरी होता है। यह प्रवेश परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाती है। पहले चरण में उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों को ही जेईई एडवांस में बैठने का मौका मिलता है।  अगर इसमें सफलता पाना आपका मकसद है, तो सही तरीके से तैयारी को अंजाम देना पड़ेगा। आइए, इसी परीक्षा से संबंधित कुछ खास बातें करते हैं।
परीक्षा पैटर्न (Exam Pattern)
प्रत्येक पेपर तीन घंटे का होगा। प्रश्न-पत्र केमिस्ट्री, फिजिक्स व मैथमैटिक्स में विभाजित होगा। सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे। इस टेस्ट में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए निगेटिव मार्क दिए जाएंगे। पेपर हिंदी व अंग्रेजी, दोनों ही भाषाओं में होगा।
ऐसे करें तैयारी (How to Prepare in JEE Advance)
मैथमैटिक्स, केमिस्ट्री व फिजिक्स के कुछ टॉपिक्स पर विशेष फोकस करना जरूरी होता है, ताकि दिमाग में कोई कंफ्यूजन न रहे। साथ ही पिछले साल के पेपर की प्रैक्टिस आपकी राह आसान कर सकती है। परीक्षा में समय का ध्यान रखना यानी टाइम मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। इसके लिए क्लास XI व XII की किताबों से प्रैक्टिस आपको सफलता दिलाने में सहायक होगी। आईआईटी-जेईई की प्रवेश परीक्षा में 45 से 55 फीसदी प्रश्न इन्हीं क्लास की किताबों से आते हैं।
मैथमैटिक्स के बेसिक कंसेप्ट पर जोर
अलजेब्रा, डिफरेंशियल कैलकुलस, कॉम्पलेक्स नंबर, प्रोबैबिलिटी, मैट्रिक्स, इंटेग्रारल कैलकुलस और कॉर्डनेट जियोमेट्री के बेसिक फॉर्मूले को अच्छी तरह से समझना जरूरी है। साथ ही इसकी प्रैक्टिस भी रेगुलर की जानी चाहिए। प्रत्येक फॉर्मूला आपके दिमाग में क्लियर होना चाहिए।
ऐसे करें केमिस्ट्री की तैयारी (Preparation of Chemistry)
केमिस्ट्री के मोल कंसेप्ट, केमिकल एक्विलिब्रियम व इलेक्ट्रोकेमिस्ट्री पर अधिक गौर करना होगा। साथ ही ऑर्गेनिक केमिस्ट्री में स्टेरियोकेमिस्ट्री, जनरल ऑर्गेनिक केमिस्ट्री और फंक्शनल ग्रुप एनालिसिस को ध्यान से पढ़ें। इनऑर्गेनिक केमिस्ट्री से भी काफी प्रश्न पूछ जाते हैं, जिसमें केमिकल बॉन्डिंग व को-ऑर्डिनेशन केमिस्ट्री पर ध्यान देना जरूरी है।
फिजिक्स ध्यान रखें इन टॉपिक्स का
मकैनिक्स, ऑप्टिक, इलेक्ट्रिसिटी और मैगनेटिज्म की तैयारी आपको अच्छे अंक दिला सकती है। पिछले वर्षों के पेपर पर नजर डालें, तो इनसे काफी प्रश्न पूछे जाते हैं। ऐसे में ठीक ढंग से इनकी तैयारी आपको लक्ष्य दिलाने में मददगार साबित हो सकती है।
 
Top