Menu

फ्री में रु.1000 का मोबाइल रिचार्जे करे, 100% working!

इंडस्ट्री में आज उन्हीं लोगों की मांग है, जिनमें व्यावसायिक गुणवत्ता के साथ सफल नेतृत्व का गुण हो। एमबीई एक ऐसा कोर्स है, जो ग्लोबल स्तर पर इंडस्ट्री की हर मांग को पूरा करने के लिए प्रशिक्षित प्रोफेशनल तैयार करता है, जिस कारण विगत वर्षों में वैश्विक स्तर पर आर्थिक विश्लेषकों, शोधकर्ताओं एवं सलाहकार की मांग बढ़ गई है। आज उद्योग के क्षेत्र में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए व्यापार, वाणिज्य, बैंकिंग, बीमा एवं वित्त विशेषज्ञ की जरूरत है, जिसका एक विकल्प मास्टर ऑफ बिजनेस इकॉनोमिक्स (एमबीई) है।
कोर्स परिचय
एमबीईए 2 साल का पूर्णकालिक पाठ्यक्रम है। यह विद्यार्थियों को व्यापार के आंकड़े, व्यापार के मूल सिद्धांत, माइक्रो एवं मैक्रो अर्थशास्त्र, वित्त, विपणन एवं एचआर प्रणाली का अध्ययन कराता है। एमबीई के विद्यार्थियों को प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन, वैश्विक सेवा, पर्यावरण अर्थशास्त्र की भी जानकारी दी जाती है। वहीं असाइन्मेंट के तौर पर विद्यार्थियों को विश्व बैंक एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से संबंधित डेटा का विश्लेषण करना पड़ता है।
एमबीई ही क्यों
एमबीई वैश्विक स्तर पर आधारित कोर्स है, जो आपको व्यवसाय चलाना ही नहीं, बल्कि उचित अनुसंधान के द्वारा प्रभावी रूप से प्रबंधन करना भी सिखाता है। सरल शब्दों में कहें तो एमबीई छात्र व्यावसायिक सिद्धांतों का ज्ञाता होता है और वह व्यावसायिक लाभ पर नजर रखकर तथा बिजनेस टूल्स एवं कार्यपद्धतियों का अनुसरण करते हुए व्यावसायिक कार्य योजनाएं बनाता है।
सही संस्थान का करें चयन
एमबीई के विद्यार्थियों को संस्थान का चयन करते समय खास सावधानी रखनी चाहिए। इस कोर्स के विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय में एमबीई के पाठ्यक्रम के साथ-साथ संस्थान में मौजूद विभिन्न प्रकार के लैब, इंडस्ट्री ओरियंटेड प्रोग्राम एवं इंडस्ट्रियल विजिट को ध्यान में रखकर ही सही संस्थान का चुनाव करना चाहिए।
रोजगार की संभावनाएं
इस फील्ड के जानकारों के लिए अवसरों की कमी नहीं है। सीजफायर इंडस्ट्री लिमिटेड के प्रेसिडेंट (सेल्स) पंकज महरोत्रा बताते हैं कि एमबीई एक रोजगार परक कोर्स है। एमबीए की तहर की एमबीई की लोकप्रियता तेजी से बढ़ती जा रही है। एमबीई के विद्यार्थी न केवल मार्केटिंग, एचआर और वित्त के विशेषज्ञ होते हैं, बल्कि उन्हें अर्थशास्त्र की भी विस्तृत जानकारी होती है। आज किसी भी कंपनी में आर्थिक विशेषज्ञ का होना जरूरी है। कंपनी के आर्थिक विशेषज्ञ लाभ-हानि का विश्लेषण कर नई नीति बनाने में मददगार साबित होते हैं। उदाहरण के तौर पर आईएमएस, नोएडा एक ऐसा ही संस्थान है, जहां एमबीई में थ्योरी और प्रैक्टिकल के साथ लाइफ स्किल्स, इंडस्ट्री लैब, वैल्यू ऐडिट एवं इंडस्ट्री सर्टिफिकेशन पर विशेष ध्यान दिया जाता है।
क्या हो योग्यता
कोर्स में एडमिशन के लिए कम-से-कम 50 फीसदी अंकों के साथ ग्रेजुएअ होना जरूरी है। नामांकन के समय विद्यार्थियों को कैअ, मैअ जैसी प्रतियोगी परीक्षा के परसेंटाइल एवं ग्रुप डिस्कशन के मार्क्स को भी ध्यान में रखा जाता है। सफलता के लिए हिंदी एवं अंग्रेजी भाषा की जानकारी, बेहतर कम्युनिकेशन स्किल और कोर्स से संबंधित पर्याप्त जानकारी होना जरूरी है।
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • www.du.ac.in
  • इंस्टीट्यूट ऑफ मैंनेजमेंट स्टडीज (आईएमएस), नोएडा
  • www.imsnoida.com
  • सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली
  • www.ststephens.edu
  • प्रेसिडेंसी कॉलेज, चेन्नई
  • www.presidencychennai.com
 
Top