Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

माइक्रोसॉफ्ट वर्ड (Microsoft Word), एक्सेल (Excel), पावरप्वाइंट (PowerPoint) आदि में एक फीचर है-मैक्रो (Macro)। असल में यह एक छोटा-सा सॉफ्वेयर (Software) टूल (Tool) जैसा है जिसे कोई भी यूजर खुद ही बना सकता है। अगर आपको कोई प्रक्रिया बार-बार करनी पड़ती है, तो आप मैक्रो (Macro) बना सकते हैं जो वहकाम आपके लिए खुद करता रहेगा। हर बार लंबी प्रक्रिया पूरी करने की बजाय आपको अगर कुछ करना होगा, तो बस एक माउस क्लिक (Mouse Click)। मान लीजिए, आपको बार-बार कुछ ऐसे पत्र भेजने पड़ते हैं, जिनकी ऊपर और नीचे की सामग्री समान रहती है। हर बार टाइप करने या कहीं से बारबार कॉपी, पेस्ट करने की बजाय आप मैक्री का इस्तेमाल कर सकते हैं।
असल में मैक्रो (Macro) एक ऐसी सुविधा है, जो वर्ड, एक्सेल (Excel), पावरप्वाइंट (PowerPoint) आदि में यूजर (User) द्वारा अंजाम दी जानेवाली किसी भी प्रक्रिया को ठीक उसी तरह, ऑटोमैटिक (Automatic) ढंग से दोहराने में सक्षम है। जब आप कोई मैक्रो (Macro) बनाना शुरू करते हैं, तो आपके द्वारा पूरी की जाने वाली हर प्रकिया की रिकॉर्ड कर मैको की शक्ल में सहेज लिया जाता है, भले ही वह प्रक्रिया दस सेकड की हो या दस मिनट की। समझिए कि पूरी प्रक्रिया एक छोटे से आइकन में कैद हो गई। अब जब चाहें, जहां चाहें, एक क्लिक में वही काम फिर से पूरा कर डालिए।
कैसे बनता है।मैको
मान लीजिए आपको अपनी फर्म, स्कूल या किसी भी संगठन का लेटरहेड (LetterHead) बनाना है। आमतौर पर लोग एक लेटरहैड बनाकर उसकी फॉर्मेटिंग (Formattting) को कॉपी पेस्ट (Copy Paste) करके इस्तेमाल करते हैं। लेकिन मैक्रो (Macro) यह काम बहुत आसान बना देता है।
एक नया वर्ड डॉक्यूमेंट बनाइए। वर्ड के रिबन में व्यूमेन्यू (Ribbon Viewmenu) पर जाकर जहां मैक्रीज (Macros)लिखा है, उसके नीचे बने छोटे से तीर के निशान पर क्लिक कीजिए। अब रिकॉर्ड मैक्रो (Macro) पर क्लिक कीजिए। एक छोटा-सा बॉक्स खुलेगा, जिसमें आप अपने मैक्रो (Macro) को एक नाम दे सकते हैं।
इसी बॉक्स में नीचे आप बता सकते हैं कि यह मैक्रो (Macro) सिर्फ इसी दस्तावेज में इस्तेमाल होना है या इसका प्रयोग दूसरे दस्तावेजों में भी किया जा सकता है। यहां 'ऑल डॉक्यूमेंट्स" पहले से सलेक्ट होगा, उसे बूंडी रहने दीजिए। यहां आपसे पूछा जाएगा कि इस मैक्रो (Macro) को चलाने के लिए माउस का इस्तेमाल करना चाहते हैं या कीबोर्ड का।
जब आप माउस क्लिक (Mouse Click) को चुनेंगे तो एक बॉक्स खुलेगा, जिसमें आपको सुविधा दी जाएगी कि आप चाहें तो अपने मैक्रो (Macro) को क्विक एक्सेस टूल (Tool)बार में जोड़ सकते हैं। यह वर्ड, एक्सेल (Excel), पावरप्वाइंट (PowerPoint) में सबसे ऊपर बायीं ओर दिखने वाला टूल (Tool)बार है, जिसमें चुनिंदा फीचर्स के आइकन होते हैं।
अब जो बॉक्स खुलता है, उसमें दो खाने दिखाई देंगे। आपका मैक्री बायीं ओर के खाने में है। बीच में दिया गया बटन दबाकर इसे दायीं ओर के खाने में ले जाइए।
अपने मैक्रो (Macro) को सलेक्ट कीजिए और नीचे दिए मॉडिफाइ बटन पर क्लिक कीजिए। इससे एक बॉक्स खुलेगा, जिसमें बहुत सारे आइकन दिखाई देंगे। इनमें से जिसे चुनेंगे, वह आपके मैक्रो (Macro) का आइकन बन जाएगा। आप देखेंगे कि आपका मैक्रो (Macro)क्विक एक्सेस टूल (Tool)बार में शामिल हो गया है।
macros in excel 2007 in hindi
मैको में मनचाही प्रकिया को रिकॉर्ड करना
अब आप जो भी करेंगे, वह प्रक्रिया आपके मैक्री के भीतर रिकॉर्ड होने लगेगी। इन्सर्टमेन्यू में जाकर header नामक बटन चुन लीजिए। इससे आपके दस्तावेज के हैडर में प्लेसहोल्डर (Placeholder) बन जाएगा, जहां आप अपनी फर्म का लोगो और नाम आदि लिख सकते हैं।
इन्सर्ट मेन्यू में क्लिक करके पिक्चर्स पर क्लिक कीजिए और अपने कंप्यूटर में रखा लोगो चुन लीजिए। यह हैडर में शामिल हो जाएगा। अब अपनी फर्म का नाम मनचाहे फॉन्ट और आकार में टाइप कर लीजिए और उसके नीचे पता, फोन नंबर, ईमेल एड़ेस आदि छोटे फॉन्ट में लिख लीजिए।
हैडर को बंद कर दीजिए और फिर से व्यूमेन्यू में जाकर मैक्रो (Macro)ज के पास दिए तीर के निशान को क्लिक कीजिए और अब 'स्टॉप रिकॉर्डिंग' पर क्लिक कीजिए। आपका मैक्रो (Macro) बनकर तैयार है। अब नया पेज खोलिए और क्विक एक्सेस बार में बने अपने मैक्रो (Macro) के निशान पर क्लिक कीजिए। आप देखेंगे कि आपकी फर्म का लेटरहैड अपने आप बन गया है। जितनी बार, जितने दस्तावेजों में चाहें, आप इस मैक्रो (Macro) का इस्तेमाल कीजिए।

8 comments:

  1. Thanks for sharing an informative blog keep rocking bring more details.I like the helpful info you provide in your articles. I’ll bookmark your weblog and check again here regularly. I am quite sure I will learn much new stuff right here! Good luck for the next!
    web designing classes in chennai | web designing training institute in chennai
    web designing and development course in chennai | web designing courses in Chennai
    best institute for web designing in chennai | web designing course with placement in chennai
    Web Designing Class
    web designing course
    best institute for web designing

    ReplyDelete
  2. Thanks for sharing an informative blog keep rocking bring more details.I like the helpful info you provide in your articles. I’ll bookmark your weblog and check again here regularly. I am quite sure I will learn much new stuff right here! Good luck for the next!
    web designing classes in chennai | web designing training institute in chennai
    web designing and development course in chennai | web designing courses in Chennai
    best institute for web designing in chennai | web designing course with placement in chennai
    Web Designing Class
    web designing course
    best institute for web designing

    ReplyDelete
  3. A IEEE project is an interrelated arrangement of exercises, having a positive beginning and end point and bringing about an interesting result in Engineering Colleges for a particular asset assignment working under a triple limitation - time, cost and execution. Final Year Project Domains for CSE In Engineering Colleges, final year IEEE Project Management requires the utilization of abilities and information to arrange, plan, plan, direct, control, screen, and assess a final year project for cse. The utilization of Project Management to accomplish authoritative objectives has expanded quickly and many engineering colleges have reacted with final year IEEE projects Project Centers in Chennai for CSE to help students in learning these remarkable abilities.



    Spring Framework has already made serious inroads as an integrated technology stack for building user-facing applications. Spring Framework Corporate TRaining the authors explore the idea of using Java in Big Data platforms.
    Specifically, Spring Framework provides various tasks are geared around preparing data for further analysis and visualization. Spring Training in Chennai


    ReplyDelete

 
Top