Menu

फ्री में रु.1000 का मोबाइल रिचार्जे करे, 100% working!

मेरे माता-पिता दोनों डॉक्टर हैं, व दादा-दादी भी डॉक्टर हैं, ऐसे में मेरा करियर के रूप में उनके पदचिन्हों पर चलना हमेशा ही सहज रहा है। मेरी मेडिसिन के क्षेत्र में रुचि भी है, क्योंकि मै इसके बारे में जानती हूं। लेकिन दूसरी तरफ अगर मैं मेडिकल के क्षेत्र में जाती हूं तो कहीं न कहीं दूसरे ऑप्शन्स को अनदेखा कर रही हूं। क्या मेडिकल के क्षेत्र में जा कर मैं सही कर रही हूं?-गीरा निगम 

 

यदि आप आपने माता-पिता को अपने काम को एंजॉय करते हुए देखकर बड़ी हुई हैं, तो यह स्वाभाविक है कि आप भी बड़ी होकर उसी काम को करने के बारे में सोचते हैं। यदि आप उसी करियर का चुनाव करते हैं तो इसमें आपको बड़ा एडवांटेज भी मिलेगा। आप केवल उस जॉब के लिए क्या आवश्यक है, यह देखकर ही नहीं बड़े हुए हैं बल्कि, आपको यह भी पता होता है कि आप इस क्षेत्र में सफल कैसे हो सकते हैं। आपको पता ही नहीं चलता कि कब आप माता- पिता से करियर की कई सारी बारीकियां सीख जाते हैं। किसी भी आइडिया को समझने की क्षमता बड़ा अंतर पैदा कर सकती है। आपके पास एक रेडिमेड करियर व क्लाइंट हैं, जो आपको करियर की शुरुआत करने में काफी मदद करेंगा। मेडिसिन में मुख्य रूप से करियर बनाने के अतिरिक्त इस क्षेत्र से संबध रखने वाले और भी क्षेत्र हैं जिसमें आप करियर बना सकते हैं। जैसे- हॉस्पिटल मैनेजमेंट, पब्लिक हेल्थ तथा मेडिको लीगल प्रैक्टिस। आपके इस क्षेत्र में आने पर मैं केवल एक ड्रॉ-बैक देख पा रही हूं, यदि आपके पैरेंट्स इस क्षेत्र में सफल हैं तो आप पर इस बात का दबाव पड़ सकता है। लेकिन यह आपके लिए प्रेरणा का कार्य भी कर सकता है,
जो वास्तविकता में अच्छी बात है। आपकी रुचि और आपकी योग्यता भी उतनी ही महत्वपूर्ण है कि आप किस क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर सकती हैं। आपको अपने करियर के सृजन में अन्य एलीमेंट्स की भी आवश्यकता होगी। आपको अपनी रुचि, योग्यता, अनुभव, व्यक्तित्व और उन मूल्यों के बारे में सोचना चाहिए जो आपको संतुष्टि व सफलता की ओर ले जाएं। ये सारे फैक्टर भी आपके करियर के लिए उतने ही महत्वपूर्ण हैं, जितनी आपकी रुचि है।
पैरामेडिकल कोर्स लिस्ट  मेडिकल कोर्स इन हिंदी  पैरामेडिकल कोर्स क्या होता है  12 वीं के बाद पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों की सूची  12 वीं के बाद लैब टेक्नीशियन कोर्स  लैब तकनीशियन कोर्स फीस  लैब तकनीशियन कोर्स विवरण  लैब तकनीशियन कोर्स इन हिंदी

 

 मैं बारहवीं का छात्र हूं। क्या आप मुझे विमानन क्षेत्र के स्कोप के बारे में बता सकते हैं और क्या इंडिया में यह मुश्किल है?- कबीर थरानी 

एविएशन इलेक्ट्रॉनिक्स, एविओनिक्स दोनों डिजाइनिंग व इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम के ऑपरेट होने के तरीके, सर्किट और एयरक्राफ्ट के कंपोनेंट, मिसाइल व सैटेलाइट से संबंध रखते हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स एवियोनिक्स की एक मुख्य शाखा के अंतर्गत कई उप - शाखाएं हैं जैसे- एवियोनिक ऑर्किटेक्चर, एयरक्रॉफ्ट कंट्रोल एंड गाईडेंस, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर। यह हायर स्टडीज और रिसर्च के क्षेत्र में भी मौका देता है। एवियोनिक्स में बी.टेक. भी एयरोस्पेस सिस्टम में प्रयोग होने वाली इलेक्ट्रॉनिक्स पर फोकस करता है। ये सभी एक टिपिकल ई.सी.ई. प्रोग्राम के अंतर्गत आते हैं। यह आपको कंप्यूटर सिस्टम को कंट्रोल करना सिखाता है, जो एयरोस्पेस सिस्टम में प्रयोग होता है। एवियोनिक्स में बी.टेक. इन स्पेशलाइजेशन में भी कर सकते हैं- पॉवर इलेक्ट्रॉनिक्स, माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक्स, कंट्रोल कंप्यूटर सिस्टम। अगर आपके पास एविओनिक्स में डिग्री है तो आप टेक्निकल मैनेजर, एवियोनिक्स इंजीनियर का रोल निभा सकते हैं।
मेडिसिन में मुख्य रूप से करियर बनाने के अतिरिक्त इस क्षेत्र से संबंध रखने वाले और भी क्षेत्र हैं जिसमें आप करियर बना सकते हैं। जैसे- हॉस्पिटल मैनेजमेंट, पब्लिक हेल्थ तथा मेडिको लीगल प्रैक्टिस।

0 comments:

Post a Comment

 
Top