Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

नई दिल्ली। स्विस बैंक्स में रखे कथित काले धन के सच से जल्द ही पर्दा उठ सकता है। भारत और स्विट्जरलैंड के बीच नए ऑटोमेटिक एक्सचेंज ऑफ इन्फोर्मेशन (एईओआई) फ्रेमवर्क के तहत सरकार को स्विस बैंक्स में भारतीय लोगों के वित्तीय खातों का पहला ब्योरा मिल गया है। माना जा रहा है कि स्विस बैंक्स में कई लोगों ने अकूत काला धन छुपा कर रखा हुआ है।

स्विट्जरलैंड के फेडरल टैक्स एडमिनिस्ट्रेशन (एफटीए) के एक प्रवक्ता ने कहा कि भारत उन 75 देशों में शामिल है, जिनके साथ एफटीए ने फाइनेंशियल अकाउंट्स पर सूचनाओं का आदान-प्रदान किया है। यह एक्सचेंज एईओआई पर अंतरराष्ट्रीय मानक के फ्रेमवर्क के तहत किया गया है।

प्रवक्ता ने कहा कि भारत को एईओआई फ्रेमवर्क के तहत पहली बार सूचना दी गई है। इस फ्रेमवर्क के तहत उन वित्तीय खातों की सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता है, जो या तो अभी सक्रिय हैं या 2018 में बंद किए जा चुके हैं। वित्तीय खातों का अगला आदान-प्रदान सितंबर 2020 में होगा।

Previous articleत्योहारी मांग आने से सोना 120 रुपए महंगा, चांदी फिसली
Next articleकमजोर वैश्विक संकतों से सेंसेक्स 141 अंक गिरकर 37,532 पर बंद



source https://lendennews.com/archives/60055

0 comments:

Post a Comment

 
Top