Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

मुंबई। महाराष्ट्र में जारी हाई वोल्टेज सियासी गहमागहमी के बीच सुप्रीम कोर्ट ने आज 10:30 बजे सुनवाई होगी। जिस पर आज सभी राजनीतिक दलों के साथ-साथ देश भर की निगाहें टिकी हुई हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने देवेंद्र फडणवीस सरकार के गठन को चुनौती देने वाली कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की याचिका को छुट्टी के दिन सुना।

तीन जजों की बेंच ने कहा कि बेशक बहुमत साबित करने का फ्लोर टेस्ट ही तरीका है, लेकिन हम पहले फडणवीस की ओर से दिए गए विधायकों के समर्थन वाले पत्र और राज्यपाल से मिली सरकार बनाने की चिट्ठी देखना चाहते हैं। उसके बाद उचित आदेश जारी हो सकता है।

महा विकास अघाड़ी (शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस) की ओर से कहा गया कि फडणवीस के पास पर्याप्त संख्या नहीं है। इनकी ओर से पेश कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अगर बीजेपी के पास बहुमत है तो वह 24 घंटे में साबित करें।

किसको मिली थी कितनी सीट
भाजपा और शिवसेना ने पिछले महीने गठबंधन में विधानसभा चुनाव लड़े और दोनों ने क्रमश: 105 और 56 सीटों पर जीत दर्ज की। बहरहाल, शिवसेना ने मुख्यमंत्री पद के बंटवारे को लेकर भाजपा के साथ अपना तीन दशक पुराना संबंध तोड़ लिया था। कांग्रेस और राकांपा को विधानसभा चुनावों में क्रमश: 44 और 54 सीटें हासिल हुई थीं।

बीजेपी की क्या है तैयारी?
अब बीजेपी के सामने चैलेंज है कि शपथ लेने के बाद कैसे देवेंद्र फडणवीस की सरकार को बचाए। इसके लिए बीजेपी ने अब 4 ऐसे दिग्गज नेताओं को काम पर लगाया है, जो कभी न कभी इन तीनों दलों में रहे हैं। इनमें सबसे बड़ा नाम नारायण राणे का है, जो पिछले दिनों कांग्रेस से बीजेपी में आए थे और उससे पहले शिवसेना में भी रहे हैं।

इसके अलावा अन्य नाम राधाकृष्ण विखे पाटील, गणेश नाईक, बबन राव के हैं, जिन्हें बीजेपी ने ‘मिशन लोटस’ का जिम्मा सौंपा है। राधाकृष्ण विखे पाटिल कांग्रेस की ओर से विधानसभा में नेता विपक्ष भी रहे थे। उनके तमाम कांग्रेस विधायकों से अच्छे संबंध हैं और माना जा रहा है कि वह अपने संबंधों के बूते बड़ी सेंध लगा सकते हैं।



source https://lendennews.com/archives/62719

0 comments:

Post a Comment

 
Top