Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

नई दिल्ली। जानते हैं आप आपके घर का और आपके अंतरंग रिश्तों का सबसे बड़ा जासूस कौन है। आपका स्मार्टफोन। वह कैसे, जानने के लिए यह खबर पढ़िए। स्मार्टफोन में हम कई तरह के एप्प डाल कर रखते हैं। यही एप्प आपकी प्राइवेसी के लिए खतरा हैं। नई सदी में बढ़ते टेक्नॉलजी के इस्तेमाल की वजह से डेटा की कीमत और चोरी भी बढ़ी है। हाल ही में डेटा लीक से जुड़े कई मामले सामने आने के बाद यूजर्स अपनी प्राइवेसी को लेकर सतर्क हो गए हैं और उनकी चिंता भी बढ़ी है।

रिसर्चर्स का कहना है कि अगर यूजर्स जानना चाहें कि कोई ऐप उनसे जुड़ा कौन सा डेटा या जानकारी जुटा रहा है, तो इसका पता लगाने के कई तरीके हैं। साइबर सिक्यॉरिटी फर्म Kaspersky की ओर से एक ब्लॉग में कहा गया है कि ज्यादातर ऐप्स यूजर के बारे में जानकारी इकट्ठा करते हैं और कई बार ऐप्स के काम करने के लिए ऐसा जरूरी होता है।

उदाहरण के लिए, किसी नेविगेशन ऐप को काम करने के लिए यूजर की लोकेशन या जीपीएस के ऐक्सेस की जरूरत होगी, जिससे वह बेहतर सर्विस दे सके। इसी तरह कई ऐसे ऐप्स भी हैं, जो बेहतर सर्विस के अलावा अपने डिवेलपमेंट के लिए भी आंकड़े इकट्ठा करते हैं।

कई बार ऐसा करने का मकसद यूजर्स की ओर से ऐप को इस्तेमाल करने का तरीका समझना भी होता है। कुछ डिवेलपर्स यूजर्स के ट्रस्ट का फायदा उठाकर कई ऐसी परमिशंस ले लेते हैं, जिनकी मदद से ऐप्स के फंक्शंस से बिल्कुल अलग डेटा इकट्ठा किया जा सके और यूजर्स को पता चले बिना उन्हें थर्ड पार्टी को बेचकर भी कमाई की जा सके।

ऐसे काम करती है सर्विस
अच्छी बात यह है कि यूजर्स कुछ सर्विसेज की मदद से चेक कर सकते हैं उनके बारे में कौन सी जानकारी इकट्ठा की जा रही है। The AppCensus ऐसी ही सर्विस है, जिसकी मदद से पता लगाया जा सकता है कि कोई ऐप यूजर्स का कौन सा पर्सनल डेटा कलेक्ट कर रहा है और इसे कहां भेज रहा है।

इसके लिए AppCensus दरअसल डायनमिक एनालिसिस मेथड का इस्तेमाल करता है। किसी ऐप को किसी मोबाइल डिवाइस पर इंस्टॉल किया जा सकता है और जरूरी परमिशंस दिए जाने के बाद कुछ वक्त तक इसे ऐक्टिवली इस्तेमाल करना होता है। इस दौरान AppCensus सर्विस नजर रखती है कि ऐप ने कौन सा डेटा किसे और कब भेजा।

ऐसे कर सकते हैं इस्तेमाल
डेटा के एनक्रिप्टेड होने की स्थिति में भी यह सर्विस पता लगा सकती है, ऐप ने यूजर का कौन सा डेटा कलेक्ट किया। Exodus Privacy भी एक ऐसी ही सर्विस है। AppCensus के मुकाबले Exodus Privacy ऐप को ही समझता है और उसके बिहेवियर को नहीं। यह सर्विस ऐप्स रिक्वेस्ट और बिल्ट-इन ट्रैकर्स को देखता है और समझता है कि कोई भी ऐप यूजर्स के ऐक्शंस किस तरह कलेक्ट कर रहा है। दोनों ही सर्विसेज को इस्तेमाल करना आसान है। इनपर किसी ऐप का नाम सर्च करके देखा जा सकता है कि वे कौन से डीटेल्स इकट्ठा कर रहे हैं। दोनों को ऑफिशल साइट पर जाकर या प्ले स्टोर से डाउनलोड कर इंस्टॉल किया जा सकता है।



source https://lendennews.com/archives/61917

0 comments:

Post a Comment

 
Top