Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

जयपुर। उत्तर भारत में सर्दी का सितम बना हआ है। हाड़कंपाने वाली सर्दी से जनजीवन पस्त है और धूजणी छुड़ा रही सर्दी से फिलहाल अगले दो तीन दिन और राहत मिलने के आसार नहीं है। जयपुर में 55 साल बाद इस बार दिसंबर में सबसे सर्द रहा। 1964 में 0.0 डिग्री दर्ज किया गया था। राजधानी में रविवार को पारा 1.4 डिग्री दर्ज किया गया है। शहर में बीती रात हाड़कंपाने वाली सर्दी का असर रहा और रात के तापमान में रेकॉर्ड गिरावट दर्ज हुई।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार प्रदेश के उत्तर पूर्व व पश्चिम के कुछ इलाकों में अगले 24 घंटे में घना कोहरा छाने और शीतलहर चलने से सर्दी के तेवर तीखे रहने वाले हैं। सीकर समेत पूर्वोत्तर राजस्थान के कई इलाकों में सुबह घना कोहरा छाया रहा। राष्ट्रीय राजमार्गों पर छाए घने कोहरे के कारण वाहनों की रफ्तार धीमी रही। वहीं सूर्योदय के बाद भी कई इलाकों में लोग घरों में दुबके रहे।

फतेहपुर में न्यूनतम तापमान 0.0 डिग्री
सीकर के फतेहपुर में बीते तीन दिन से जमाव बिंदू से नीचे पारा जमा रहा लेकिन बीती रात आंशिक बढ़ोतरी के बावजूद पारा जमाव बिंदू से आगे नहीं बढ़ सका। फतेहपुर में रविवार को न्यूनतम तापमान 0.0 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड हुआ वहीं कस्बे में सुबह घना कोहरा भी छाया रहा।

55 साल बाद जयपुर सबसे सर्द
मौसम केंद्र जयपुर से मिली जानकारी के अनुसार बीती रात शहर के तापमान में रेकॉर्ड गिरावट दर्ज हुई। 55 साल बाद जयपुर सबसे सर्द रहा। 13 दिसंबर 1964 के बाद जयपुर में इस बार दिसम्बर सबसे सर्द रहा है। 1964 में 0.0 डिग्री दर्ज किया गया था। शहर में पारा 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ है।

दिसंबर में यूं रहा न्यूनतम तापमान
30 दिसंबर 2018 — 05.0 डिग्री
17 दिसंबर 2017 — 08.0 डिग्री
20 दिसंबर 2016— 8.5 डिग्री
25 दिसंबर 15— 4.2 डिग्री
29 दिसंबर 14— 3.4 डिग्री
29 दिसंबर 13— 4.5 डिग्री
31 दिसंबर 12— 6.1 डिग्री
18 दिसंबर 11— 5.6 डिग्री
10 दिसंबर 10— 6.0 डिग्री
31 दिसंबर 09— 7.8 डिग्री
23 दिसंबर 08 — 6.6 डिग्री

Previous article8 जनवरी की राष्ट्रव्यापी हड़ताल को सफल बनाने का आव्हान



source https://lendennews.com/archives/64695

0 comments:

Post a Comment

 
Top