Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

कोटा। शहर के मध्य स्थित किशोरसागर तालाब की पाल शनिवार को विभिन्न प्रजातियों के खुबसूरत फूलों एवं गमलों में लगे सुगंधित फूलों से महक उठी। मौका था तीन दिवसीय चम्बल बायोडायवर्सिटी फेस्टिवल के शुभारंभ का। फेस्टिवल के तहत किशोर सागर तालाब की पाल पर एक तरफ सैंकडों प्रजाति के खुबसूरत एवं सुगंधित फूल बरबस ही राहगीरों को अपनी और आकर्षित कर रही थी।

यही नहीं यहां पर बोनसाई, दुर्लभ पौधे, आयुर्वेदिक एवं औषधीय महत्व के पौधों की प्रदर्शनी के अदभुत नजारों को दर्शकों ने खूब सराहा। शहर वासियों को इस चम्बल बायोडायवर्सिटी फेस्टिल के तहत यह नजारा शनिवार से 10 फरवरी तक विभिन्न आयोजनों के साथ देखने को मिलेगा।

पुष्प प्रदर्शनी का शुभारंभ संभागीय आयुक्त एलएल सोनी ने विधिवत फीता काटकर किया। इस अवसर पर जिला कलक्टर ओम कसेरा, उपायुक्त नगर निगम कीर्ति राठौड़ ने भी उपस्थित रहे। पुष्प प्रदर्शनी में 200 से अधिक प्रजातियों के पुष्पों का प्रदर्शन किया गया है। जिला मुख्यालय के सरकारी, गैर सरकारी संस्थाओं एवं शैक्षणिक संस्थानों, औद्योगिक इकाईयों द्वारा संयुक्त रूप से किशोर सागर तालाब की पाल को रंग-बिरंगे फूलों से सजाया है।

प्रदर्शनी में बोनसाई पौधों की श्रृंखला में वर्षों पुराने दुर्लभ पौधों का संग्रहण भी प्रदर्शित किया गया है। इस प्रदर्शनी में आयुर्वेदिक एवं औषधीय महत्व के पौधों भी प्रदर्शित किए गए हैं। वन विभाग द्वारा वन औषधीय बीज एवं पादप का प्रदर्शन किया गया है। प्रदर्शनी मेंं औषधियों का उपयोग एवं उनकी पहचान के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

फोटो प्रदर्शनी का किया अवलोकन
तीन दिवसीय चम्बल बायोडायवर्सिटी फेस्टिवल के तहत आर्ट गैलेरी में वाइल्ड लाइफ के फोटोग्राफ की प्रदर्शनी का संभागीय आयुक्त एलएन सोनी एवं उपायुक्त कीर्ति राठौड़ ने शुभारंभ कर अवलोकन किया। फोटो प्रदर्शनी के बारे में सारांश एवं हर्षित ने अतिथियों को हाड़ौती संभाग में पाए जाने वाले जलीय जीव-जंतु, देशी-विदेशी पक्षियों के साथ-साथ विभिन्न प्रजातियों के पक्षियों के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इस प्रदर्शनी में करीब 160 जीव जन्तु, पक्षियों के आर्ट गैलेरी में फोटोग्राफ एवं टाइगर की विभिन्न क्रीड़ाओं के मनमोहक चित्रों का चित्रण भी किया गया। यह प्रदर्शनी भी आमजन के अवलोकन के लिए 10 फरवरी तक खुली रहेगी और प्रवेश निशुल्क रहेगा।

रैम्प वॉक से समझाया पौधों का महत्व
प्रदर्शनी के पहले दिन कुतुर इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी की ओर से आकर्षक रैम्प वॉक किया गया। संस्था के विद्यार्थियों ने आकर्षक परिधानों में हरियाली के संरक्षण का संदेश दिया। पौधों की पत्तियों के रूप में लगाकर रैम्प वॉक कर प्रदर्शनी देखने के लिए आने वालों को पौधों के महत्व के बारे में समझाया। इस शो को अतिथियों ने भी खूब सराहा।



source https://lendennews.com/archives/66965

0 comments:

Post a Comment

 
Top