Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

नई दिल्ली। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस से जुड़े प्रयासों को लगातार आगे बढ़ाते हुए केंद्र सरकार नई कंपनी खोलने के लिए एक इंटीग्रेटिड इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म पेश करने जा रही है। यह फॉर्म 15 फरवरी को जारी हो जाएगा। इस फॉर्म के जारी होने के बाद नई कंपनियों को ईपीएफओ और ईएसआईसी रजिस्ट्रेशन नंबर तुरंत अलॉट हो जाएगा।

कॉरपोरेट मामले का मंत्रालय SPICe+ नाम के इस फॉर्म को लॉन्च करेगा। इस फॉर्म के जरिए नई कंपनियों को 10 प्रकार की सेवाएं मिलेंगी। मौजूदा समय में मंत्रालय इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म SPICe (सिम्प्लीफाइड प्रोफार्मा फॉर इनकॉरपोरेटिंग कंपनी इलेक्ट्रॉनिकली) उपलब्ध कराता है। अब इस फॉर्म का स्थान SPICe+ लेगा। मंत्रालय की ओर से जारी एक सार्वजनिक सूचना में कहा गया है कि नए फॉर्म में शामिल 10 सेवाओं का लाभ मिलने से भारत में नया कारोबार शुरू करते समय कई प्रकार की प्रक्रिया, समय और धन की बचत होगी। इस फॉर्म के जरिए श्रम मंत्रालय, वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग और महाराष्ट्र सरकार की कई सेवाएं मिलेंगी।

15 फरवरी से अनिवार्य होगा ईपीएफओ-ईएसआईसी नंबर
मंत्रालय की ओर से जारी सूचना में कहा गया है कि 15 फरवरी से नई कंपनी खोलने के लिए एप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (ईपीएफओ) और एप्लॉयीज स्टेट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (ईएसआईसी) रजिस्ट्रेशन नंबर जरूरी होगा। नए फॉर्म में यह दोनों रजिस्ट्रेशन नंबर ऑटोमैटिक तरीके से मिल जाएंगे। इसके लिए दोनों संस्थानों से अलग से रजिस्ट्रेशन नंबर लेने की जरूरत नहीं होगी।

नए फॉर्म से यह 10 सेवाएं मिलेंगी
1- कंपनी नाम का रिजर्वेशन
2- इनकॉरपोरेशन ऑफ कंपनी
3- ईपीएफओ रजिस्ट्रेशन नंबर
4- ईएसआईसी रजिस्ट्रेशन नंबर
5- महाराष्ट्र के लिए प्रोफेशन टैक्स रजिस्ट्रेशन
6- पर्मानेंट अकाउंट नंबर (पैन नंबर)
7- टैक्स डिडक्शन एंड कलेक्शन अकाउंट नंबर (टैन नंबर)
8- संबंधित कंपनी के लिए बैंक खाता
9- डायरेक्टर आइडेंटिफिकेशन नंबर (डिन)
10- जीएसटीआईएन

MCA21 पोर्टल पर उपलब्ध होगा नया फॉर्म
कॉरपोरेट मामलों का मंत्रालय कंपनीज एक्ट को लागू करता है और कानून के अनुसार सभी जरूरी प्रक्रिया और कंपनियों का निगमन MCA21 पोर्टल के जरिए करती है। नया SPICe+ फॉर्म भी इस पोर्टल पर उपलब्ध होगा। मंत्रालय के नोटिस में कहा गया है कि SPICe+ के जरिए निगमित होने वाली सभी नई कंपनियों को कंपनी का बैंक अकाउंट वेब फॉर्म पर उपलब्ध लिंक AGILE-PRO के जरिए खोला जाएगा।

देश में 11.5 लाख एक्टिव कंपनी
इस समय देश में 11.5 लाख एक्टिव रजिस्टर्ड कंपनी हैं और हर महीने हजारों कंपनियां रजिस्टर्ड होती हैं। जो कंपनियां समय-समय पर सभी रेगुलेटरी जरूरतों को पूरा करती हैं उन्हें एक्टिव कंपनी कहा जाता है।



source https://lendennews.com/archives/66973

0 comments:

Post a Comment

 
Top