Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

मुंबई। इस सप्ताह शेयर बाजार की दिशा काफी हद तक बजट के ‘खुमार‘’ से तय होगी। इसके अलावा निवेशकों की निगाह रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा, वृहद आर्थिक आंकड़ों तथा कंपनियों के तिमाही नतीजों पर भी रहेगी। शनिवार को बजट से निराश बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 988 अंक का गोता लगा गया। विश्लेषकों ने कहा कि बजट बाजार उम्मीदों को पूरा करने में विफल रहा, जिससे निवेशक निराश हैं।

बाजार को बजट में वृद्धि प्रोत्साहन और राजकोषीय अनुशासन के उपायों की उम्मीद थी। आनंद राठी एंड स्टॉक ब्रोकर्स के मुख्य अर्थशास्त्री और कार्यकारी निदेशक सुजन हाजरा ने कहा, ‘‘वृद्धि को प्रोत्साहन देने के उपायों का अभाव बाजार की दृष्टि से नकारात्मक रहा। नयी आयकर व्यवस्था कर छूट वाली इक्विटी बचत योजनाओं के लिए नकारात्मक है।’’

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘आयकर बदलाव रियायतें छोड़ने की शर्तों के साथ आए हैं, जिससे बाजार निराश हुआ। बीमा क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित हुआ है।’’ उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष के राजकोषीय घाटे के लिए जो लचीलापन दिखाया गया है, वह सकारात्मक है, लेकिन इसका विस्तार अगले वित्त वर्ष तक करने से बाजार को और भरोसा मिल पाता।

उन्होंने कहा कि अब बजट पेश हो चुका है। ऐसे में सभी निगाह तिमाही नतीजों और निकट भविष्य के वैश्विक घटनाक्रमों पर रहेगी। रिजर्व बैंक बृहस्पतिवार को बजट के बाद की अपनी पहली मौद्रिक समीक्षा पेश करेगा। विनिर्माण और सेवा क्षेत्र के पीएमआई आंकड़े इसी सप्ताह आने हैं।

सप्ताह के दौरान भारती एयरटेल, ल्यूपिन, सनफार्मा और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियों के तिमाही नतीजे आएंगे। बजट के दिन शनिवार को बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 987.96 अंक या 2.43 प्रतिशत टूटकर 39,735.53 अंक पर आ गया। बीते सप्ताह सेंसेक्स 1,877.66 अंक टूटा।



source https://lendennews.com/archives/66618

0 comments:

Post a Comment

 
Top