Menu

कमाइए 30000रुपये हर महीने करे, 100% working!

मुंबई। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(एसबीआई) ने MCLR में 0.05% की कटौती का ऐलान किया है। यह कटौती सभी मैच्योरिटी पीरियड्स के लोन पर लागू होगी। इसके साथ ही बैंक ने फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज भी घटा दिया है, यानी आपका फायदा घट जाएगा। यह कटौती 10 फरवरी से प्रभावी होगी।

बैंक ने इस साल नौवीं बार एमसीएलआर में कटौती की है। बैंक ने कहा कि इस कटौती के बाद एक साल की अवधि वाले लोन पर एमसीएलआर कम होकर 7.85 पर्सेंट पर आ गया है। यह कटौती रिज़र्व बैंक की पॉलिसी के एक दिन बाद की गई है, जिसमें रीपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया था।

बता दें कि गुरुवार को रिज़र्व बैंक ने रीपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया था लेकिन हाउसिंग, ऑटो सेक्टर के साथ छोटे उद्योगों को दिए जाने वाले लोन को 31 जुलाई तक CRR से मुक्त कर दिया है। इससे बैंकों के पास ज्यादा कैश बचेगा, जिससे वे इन सेक्टरों को ज्यादा लोन दे पाएंगे।

अवधि मौजूदा MCLR (% में) नया MCLR (% में)
ओवरनाइट 7.65 7.6
1 महीना 7.65 7.6
3 महीना 7.7 7.65
6 महीना 7.85 7.8
1 साल 7.9 7.85
2 साल 8.1 8.05
3 साल 8.2 8.15

आंकड़े SBI की वेबसाइट से लिए गए हैं

केंद्रीय बैंक ने रीपो रेट में कोई बदलाव न करते हुए इसे 5.15 पर बरकरार रखा था, हालांकि एक लाख करोड़ रुपये तक की राशि के लिए लॉन्ग टर्म रीपो की घोषणा की थी। इससे कमर्शल बैंकों के बैंकों के लिए कर्ज जुटाना सस्ता हो गया।

बैंक ने एफडी की दरों में भी बदलाव किया है। SBI ने कहा कि उसने बैंकिंग प्रणाली सिस्टम में लिक्विडिटी को देखते हुए दो करोड़ रुपये से कम के रिटेल डिपॉजिट और दो करोड़ रुपये से अधिक के बल्क डिपॉजिट की ब्याज दरों में भी बदलाव किया है। रिटेल एफडी के लिए ब्याज दर में 0.1 से 0.5 प्रतिशत तक की तथा बल्क डिपॉजिट में 0.25 प्रतिशत से 0.50 प्रतिशत तक की कटौती की गई है। नई दरें 10 फरवरी से प्रभावी हैं।

देखें नई दरें…

अवधि /दिन मौजूदा FD रेट संशोधित FD रेट्स सीनियर सिटिजन्स के लिए मौजूदा FD रेट्स सीनियर सिटिजन्स के लिए नए FD रेट्स
7 -45 4.5% 4.5% 5 % 5%
46 – 179 5.5% 5% 6% 5.5%
180 -210 5.8% 5.5% 6.3% 6%
211-365 5.8% 5.5% 6.3% 6%
1 से 2 वर्ष 6.1% 6% 6.6% 6.5%
2 से 3 वर्ष 6.1% 6% 6.6% 6.5%
3 से 5 वर्ष 6.1% 6% 6.6% 6.5%
5 से 10 वर्ष 6.1% 6% 6.6% 6.5%


source https://lendennews.com/archives/66892

0 comments:

Post a Comment

 
Top